International

स्पेशल रिपोर्ट: कश्मीर पर मालदीव का भारत को खुला समर्थन

पीएम मोदी मालदीव दौरे पर
फाइल फोटो

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर की धारा 370 को निरस्त करने के भारत सरकार के फैसले का मालदीव ने स्पष्ट शब्दों में समर्थन किया है। मालदीव सरकार ने अपने एक औपचारिक बयान में कहा है कि भारतीय संविधान की धारा 370 को लेकर भारत सरकार ने जो फैसला किया है मालदीव उसे भारत का अंदरुनी मामला मानता है।





मालदीव ने साफ शब्दों में यह भी कहा है कि उसका मानना है कि किसी भी सर्वभौमिक सरकार का य़ह अधिकार है कि वह अपने कानून को जरूरत के मुताबिक संशोधन कर सकती है।

गौरतलब है कि चीन सरकार ने भारत के कश्मीर कदम पर अपनी नाराजगी जाहिर की थी जब कि अमेरिका ने तटस्थ बयान देते हुए कहा था कि कश्मीर को अंदरूनी मामला बताने के भारत सरकार के बयान को उसने नोट किया है। खाड़ी के देश संयुक्त अरब अमीरात ने भी इस मसले पर सकारात्मक बयान दिया था।

गौरतलब है कि चीन ने अपने बयान में कहा था कि किसी भी देश को ऐसा कदम नहीं उठाना चाहिये जिससे राज्य की यथास्थिति प्रभावित हो। चीन ने यह भी कहा कि भारत के इस कदम से चीन की सम्प्रभुता पर आंच आई है।

दूसरी ओऱ अमेरिका ने भारत के कदम पर सधी हुई प्रतिक्रिया दी थी औऱ कहा था कि भारत द्वारा इसे अपना अंदरुनी मामला बताने को अमेरिका ने नोट किया है। संयुक्त अऱब अमीरात ने भी भारत के कश्मीर पर निर्णय को समर्थन दिया। यहां संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत अहमद अल बन्ना ने कहा कि वह यह उम्मीद करते हैं कि इस बदलाव से लोगों में सुरक्षा की भावना बढ़ेंगी और इससे शांति और स्थिरता और मजबूत होगी।

चीन का मुख्य एतराज लद्दाख के इलाके को भारत का केन्द्र शासित प्रदेश बनाने को लेकर है। चीन ने कहा है कि पश्चिमी इलाके में चीन के भू-भाग को भारत द्वारा अपने इलाके में विलय करने का चीन ने हमेशा विरोध किया है।

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ह्वा चुन ईंग ने एक बयान में कहा कि भारत द्वारा हाल का एकपक्षीय फैसला चीन को अस्वीकार्य है औऱ इसका कोई असर नहीं पडेगा।

चीन के इस कड़े बयान पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहाथा कि भारत किसी दूसरे देश के अंदरुनी मामले में हस्तक्षेप नहीं करता है औऱ न ही वह यह चाहता है कि भारत के अंदरुनी मामले में कोई देश दखल दे।

चीन ने कहा था कि कश्मीर के ताजा हालात से चीन काफी चिंतित है। उनसे पूछा गया था कि भारत औऱ पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी कर रहे हैं जिससे उस इलाके में तनाव पैदा हो गया है। चीनी प्रवक्ता ने कहा कि सम्बद्ध पक्षों को संयम बरतना चाहिये। यह मसला भारत और पाकिस्तान के बीच इतिहास द्वारा छोड़ा गया है और इसे लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय में भी आमराय बन चुकी है।

Comments

Most Popular

To Top