International

स्पेशल रिपोर्ट: सामरिक के बाद जापान की नजर अब भारत में खाद्य उत्पादों को बढ़ावा देने की

जापानी राजदूत केंजी हीरामातसु
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत के साथ सामरिक, राजनीतिक और आर्थिक क्षेत्रों में रिश्तों को मजबूत करने के बाद जापान अब भारत में अपनी बढ़ती लोकप्रियता का लाभ जापानी  खाद्य  उद्योग को दिलवाने की कोशिश कर रहा है।





इस इरादे से यहां पिछले सप्ताह जापानी दूतावास  में जापानी भोजन के साथ एक शाम  का आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन करते हुए जापानी राजदूत केंजी हीरामातसु ने कहा कि भारत-जापान के बीच दोस्ती के रिश्ते आज से अधिक इतना मजबूत कभी नहीं रहे। गौरतलब है कि जापानी भोजन की मांग भारत में लगातार बढ़ रही है। लेकिन यहां जापानी राजनयिकों ने कहा कि भारत में कुल 60 जापानी रेस्तरां ही चल रहे हैं जब कि भारत से काफी छोटा देश कम्बोडिया में सौ से अधिक जापानी रेस्तरां  सक्रिय हैं।

जापानी राजदूत ने उम्मीद जाहिर की कि  भारत में अब अधिक से अधिक लोग जापानी खाने को पसंद करेंगे।  इस मौके पर वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभू औऱ कई देशों के राजदूत और अग्रणी व्यापारिक प्रतिनिध मौजूद थे। इस मौके पर जापानी टी एम्बेसडर हिरोई मिकी को खासकर जापान से आमंत्रित  किया गया था।

इस मौके पर भारत जापान मैत्री मंच के अध्यक्ष एम्बेसडर वाधवा ने भारत में जापानी खाद्य को लोकप्रिय बनाने के जापानी खाद्य उद्योग के विशेष प्रयासों की सराहना की। फूड फेस्टिवल के दौरान जापानी रेस्तराओं ने विशेष जापानी पकवान पेश किये।

हालांकि जापानी उपभोक्ता उत्पाद घर घर में लोकप्रिय हो चुके हैं लेकिन जापान अब अपने खाद्य उत्पादों के जरिये भी घर घऱ में प्रवेश करने की कोशिश में अभियान शुरू कर चुका है।

Comments

Most Popular

To Top