International

स्पेशल रिपोर्ट: भारत-ऑस्ट्रेलिया जल्द करेंगे लाजिस्टिक्स समझौता 

भारत और ऑस्ट्रेलिया
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच परस्पर सैन्य साज सामान समर्थन समझौता (म्युच्युल लाजिस्टिक्स सपोर्ट अग्रीमेंट) पर दोनों देशों के आला अधिकारियों के बीच बातचीत चल रही है। यह  बातचीत जल्द सम्पन्न होने के बाद  इस पर समझौता होने की उम्मीद है।





यहां ऑस्ट्रेलिया की हाई कमिश्नर हरिंदर सिद्धू ने इंडियन एसोसियशन फॉर फॉरेन अफेयर्स कारेसपोंडेंट (IAFAC)  के साथ  एक बातचीत में यह जानकारी दी। गौरतलब है कि भारत ने इसी तरह का समझौता अमेरिका के साथ दो साल पहले किया था और इसी साल फ्रांस के साथ इस आशय का समझौता किया गया है। हिंद महासागर में समुद्री सुरक्षा सुनिश्चित करने में भारत और ऑस्ट्रेलिया की बढ़ती साझेदारी के मद्देनजर लाजिस्टिक्स सपोर्ट अग्रीमेंट पर दोनों पक्षों पर सहमति होना काफी अहम है।

लाजिस्टिक्स सपोर्ट अग्रीमेंट के जरिये दो नौसेनाएं महासागरों में एक-दूसरे के युद्धपोतों को ईंधन और साज-सामान आदि की सप्लाई जरूरत पड़ने पर कर सकती हैं। इससे किसी भी नौसेना को संकट के वक्त जरूरी ईंधन या साज सामान मिल सकेगा। इससे  दोनों नौसेनाएं बीच समुद्र में एक दूसरे के काम आ कर एक दूसरे की सामरिक मदद कर सकेंगी। ऑस्ट्रेलिया ने करीब तीन साल पहले इस आशय का प्रस्ताव किया था।

माना जा रहा है कि भारत औऱ ऑस्ट्रेलिया के बीच यह समझौता भारत और अमेरिका के बीच लाजिस्टिक्स सप्पाई अग्रीमेंट की तर्ज पर होगा। भारत ने फ्रांस के साथ भी उसी तर्ज पर लाजिस्टिक्स सपोर्ट अग्रीमेंट किया है। इस तरह के समझौतों से दो नौसेनाओं के बीच आपसी भरोसा औऱ साझेदारी की भावना और मजबूत होती है। गौरतलब है कि हिंद महासागर में भारत समान विचार वाले देशों के साथ मिल कर समुद्री सुरक्षा मजबूत करने में जुटा है। हिंद महासागर के इलाके में चीनी नौसेना की बढती गतिविधियों के मद्देनजर भारत का अमेरिका, फ्रांस औऱ आस्ट्रेलिया के साथ इस तरह का नौसैनिक साज सामान के आदान प्रदान का समझौता काफी अहम है।

गौरतलब है कि हाल के सालों में भारत औऱ ऑस्ट्रेलिया के बीच परस्पर  सामरिक साझेदारी का रिश्ता काफी मजबूत हुआ है। दोनों देशों की नौसेनाओं ने साझा नौसैनिक अभ्यासों का स्तर काफी ऊंचा कर दिया है। दो महीना पहले ही भारत और ऑस्ट्रेलिया ने आस इंडेक्स नाम से साझा नौसैनिक  अभ्यास कर यह संदेश दिया है कि हिंद महासागर के इलाके में दोनों देश मिलकर सुरक्षा भूमिका निभाने को तैयार हैं। इस साझा अभ्यास में दोनों नौसेनाओं द्वारा पनडुब्बियों औऱ युद्धपोतों के अलावा समुद्री विमानों को भी उतारा गया।

इसी के मद्देनजर ऑस्ट्रेलिया द्वारा चार देशों के समूह क्वाड में  अमेरिका, जापान, भारत और ऑस्ट्रेलिया  के बीच सक्रिय भूमिका निभाना काफी अहम है। चार देशों के समूह क्वाड में भारत और ऑस्ट्रेलिया समुद्री शांति व स्थिरता औऱ समुद्री कानूनों का पालन करने वाली व्यस्थाओं के समुचित संचालन पर  जोर दे रहे हैं। गौरतलब है कि दक्षिण चीन सागर में चीन के विस्तारवादी रवैये से निबटने के लिये क्वाड की बैठकों में चर्चा की जाती है।

Comments

Most Popular

To Top