International

Special Report: भारत-अमेरिका के रक्षा सचिवों की अहम बैठक अमेरिका में, गहरा होगा सहयोग

भारत-अमेरिका का फ्लैग

नई दिल्ली। भारत और अमेरिका के रक्षा सचिवों की वाशिंगटन में अहम बैठक हुई है। यह बैठक दोनों देशों के डिफेंस पॉलिसी ग्रुप के तत्वावधान हुई। दोनों देशों के साझा रक्षा नीति दल (डीपीजी ) की यह 15वीं सालाना बैठक थी। इस बैठक में दोनों देशों के बीच रक्षा औऱ सैन्य सहयोग के कार्यक्रमों पर चर्चा की जाती है।





डीपीजी भारत और अमेरिका के बीच शीर्ष  आधिकारिक स्तर की व्यवस्था है जिसके तहत दोनों देश दिवपक्षीय सैन्य सहयोग के सभी पहलुओं की समीक्षा करते है औऱ दोनों देशों के आला अधिकारियों को विभिन्न कार्यक्रमों के संचालन के लिये दिशा-निर्देश देते  हैं। डिफेंस पालिसी ग्रुप की बैठक की सहअध्यक्षता भारतीय रक्षा सचिव संजय मित्रा और अमेरिका के रक्षा विभाग के नीति मामलों के अवर सचिव जान रूड ने की।

इस बैठक में हाल के सालों में विभिन्न क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच विकसित हुए रक्षा सहयोग के मसलों की समीक्षा की गई। इसमें रक्षा व्यापार, तकनीक, खरीद, उद्योग, शोध एवं विकास, सेनाओं के बीच तालमेल आदि मसलों पर चर्चा की गई। दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को मजबूत करने में उपयोगी साबित हो रहे रक्षा समझौतों की अहमियत को दोनों पक्षों ने स्वीकार किया।  दोनों पक्षो ने कहा कि भारत को मेजर डिफेंस पार्टनर बनाने का फैसला सराहनीय है।

डीपीजी की बैठक में दोनों सहअध्यक्षों को डीपीजी के तहत गठित विभिन्न कार्यदलों के प्रमुखों ने अपनी गतिविधियों की पूरी जानकारी दी। इस बैठक में दोनों देशों के बीच सार्थक सहयोग जारी रखने के लिये  प्रक्रियात्मक मसलों पर विचारों का आदान प्रदान किया गया।

दोनों पक्षों ने कहा कि डीपीजी दोनों देशों के रक्षा और विदेश  मंत्रियों की टू प्लस टू डायलाग का एक अहम  हिस्सा है।  दोनों पक्ष डीपीजी की अगली बैठक भारत में आयोजित करने पर सहमत हुए हैं।

Comments

Most Popular

To Top