International

स्पेशल रिपोर्ट: बालाकोट में कुछ नहीं हुआ तो वहां मीडिया को क्यों नहीं ले जाता पाक

सर्जिकल स्ट्राइक

नई दिल्ली। पाकिस्तान के बालाकोट इलाके पर भारतीय वायुसेना के सर्जिकल हमले से यदि वहां कोई नुकसान नहीं हुआ है तो एक सप्ताह बाद भी वहां अपनी मीडिया टीम को नहीं ले जाने पर यहां आला सूत्रों ने सवाल उठाया है। सूत्र ने कहा कि पाकिस्तान की धरती से संचालित आतंकवादी हरकतों से निबटने के लिये भारत के पास सभी विकल्प खुले हैं।





गौरतलब है कि 26 फरवरी को बालाकोट पर भारतीय वायुसेना के हवाई हमले के बाद पाकिस्तान ने दावा किया था कि वहां केवल एक दो पेड़ों को ही नुकसान हुआ है। पाकिस्तान ने वहां की सचाई दिखाने के लिये पाकिस्तानी मीडिया टीम भी ले जाने का वादा किया था लेकिन एक सप्ताह बाद भी पाकिस्तानी सेना वहां किसी मीडिया टीम को नहीं ले जा सकी।

गौरतलब है कि बालाकोट पर हवाई हमले के बाद भारतीय विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा था कि वहां जैश ए मोहम्मद का आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर चल रहा था और हमले में वहां जैश  ए मोहम्मद के कई सीनियर कमांडर मारे गए थे।

भारतीय वायुसेना के सुखोई- 30 विमान को गिराए जाने के पाकिस्तानी दावे को भी यहां आला सूत्रों ने गलत बताते हुए कहा कि यदि यह सचाई है तो पाकिस्तान इसका मलवा क्यों नहीं दिखाता। सूत्रों ने पाकिस्तान के इस बयान को भी गलत बताया कि भारतीय नौसेना की पनडुब्बी पाकिस्तानी समुद्री इलाके में देखी गई। सूत्रों ने कहा कि भारतीय पनडुब्बी की जो तस्वीर दिखाई गई वह तीन साल पुरानी थी।

आतंकवाद के मसले पर बातचीत करने के पाकिस्तानी प्रस्ताव को ठुकराते हुए यहां सूत्र ने कहा कि आतंकवाद के मसले पर कैसी बातचीत हो सकती है। इसमें तो पाकिस्तान को ही ठोस कदम और कार्रवाई करनी होगी। पाकिस्तान को आतंकवादी ढांचा को नष्ट करना होगा इसके बाद ही कोई बात हो सकती है। सूत्र ने कहा कि पाकिस्तान ने कभी इस सच्चाई से इनकार नहीं किया कि मसूद अजहर जैश ए मोहम्मद का नेता है।

भारत औऱ पाकिस्तान के विवादों को दूर करने के लिये अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता के प्रस्तावों को खारिज करते हुए सूत्र ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री की इस मसले पर कई देशों के नेताओं से बातचीत हुई है लेकिन इसमें किसी नेता ने मध्यस्थता का मसला नहीं उठाया। अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा हाल में भारत पाक मसलों पर दिए गए बयानों के बारे में सूत्र ने कहा कि भारत ने देशों से कहा है कि यदि आपको कोई भूमिका निभानी है तो आप पहले पाकिस्तान को समझाइये कि वह क्या कर रहा है।

पाकिस्तान को भरोसेमंद तरीके से दुनिया को यह दिखाना होगा कि वह आतंकवाद के खिलाफ क्या विश्वसनीय कार्रवाई कर रहा है। आतंकवाद को वित्तीय मदद मिलने की जांच करने वाली संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स को भी पाकिस्तान बरगलाने की कोशिश कर रहा है। हाल में पाकिस्तान ने आतंकवादी संगठनों के खिलाफ जो कदम उठाए हैं वे केवल दिखाने के लिये ही हैं।

जहां तक भारतीय पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने का सवाल भारत ने पाकिस्तान से साफ कह दिया था कि इस मसले पर कोई समझौता नहीं होगा। पाकिस्तान को तुरंत बिना शर्त भारतीय पायलट को लौटाना होगा। सूत्र ने कहा कि भारतीय पायलट को पाकिस्तान ने भारत के कड़े रुख औऱ अंतरराष्ट्रीय दबाव में लौटाया।

Comments

Most Popular

To Top