International

स्पेशल रिपोर्ट: भारत और अफगान के बीच हवाई सम्पर्क घटा

एयर इंडिया

नई दिल्ली। पाकिस्तान द्वारा भारत आने जाने वाले विमानों के लिये अपना आसमान बंद करने की वजह से भारत और अफगानिस्तान के बीच आवाजाही पर  काफी प्रतिकूल असर पड़ा  है।





अफगानिस्तान के कार्यवाहक राजदूत ताहिर कादरी ने यहां एक बातचीत में कहा कि अफगानिस्तान और भारत के बीच रोज सात उड़ानें थीं जो घट कर दो पर रह गई हैं। दोनों देशों के बीच हवाई सफर डेढ़ घंटे का था जो अब पांच घंटे का हो गया है। गौरतलब है कि गत 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट पर भारत द्वारा किये गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान  ने भारतीय उड़ानों के लिये अपना हवाई क्षेत्र बंद कर दिया था।

राजदूत ने कहा कि भारत और अफगानिस्तान के बीच भले ही सीधा सीमा सम्पर्क नहीं हो दोनों देश दिलों से जुड़े हैं। हम आपस में अपनी सीमाएं साझा नहीं करते लेकिन हमारे दिल मिले हुए हैं। राजदूत के मुताबिक अफगानिस्तान में भारतीयों पर लोग सबसे अधिक भरोसा करते हैं। भारतीयों ने अफगानियों का दिल जीता है। भारत ने अफगानियों के लिये कई  परियोजनाएं लागू की हैं जिससे अफगान लोग काफी बेहतर जीवन जीने लगे हैं।

भारत के साथ मजबूत सामरिक साझेदारी की चर्चा करते हुए राजदूत ने कहा कि भारत में अफगानिस्तान के  एक हजार से अधिक सुरक्षा बलों को ट्रेनिंग दी जाती है। इसके अलावा एक हजार से अधिक अफगान छात्र भारत में स्कॉलरशिप पर पढ़ाई के लिये आते हैं। अफगान लोग इस बात की भारी सराहना करते हैं कि भारत अफगानी युवा को शिक्षित कर रहा है। भारत में पढ़ाई करना उनके लिये आंखें खोलने वाली होती हैं।

ईरान में भारत द्वारा चाबाहार बंदरगाह को बनाए जाने की चर्चा करते हुए राजदूत ने कहा कि अफगानिस्तान अब चारों ओऱ से जमीन से घिरा देश नहीं है बल्कि  पुलों से जुड़ा देश है।  अफगानिस्तान में तालिबान के साथ चल रही शांति वार्ता के बारे में राजदूत ने कहा कि अफगानी शांति वार्ता अफगानी लोगों द्वारा संचालित और नियंत्रित होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में आगामी सितम्बर में राष्ट्रपति चुनाव की गहन तैयारी चल रही है। गौरतलब है कि ये चुनाव इसी साल के शुरु में होने थे लेकिन  तालिबान के साथ अमेरिका की वार्ता के मद्देनजर ये स्थगित कर दिये गए थे।

Comments

Most Popular

To Top