International

Special Report: स्मार्ट शहरों को चमकाने में मदद करेगा यूरोपीय संघ

भारत और यूरोपीय संघ

नई दिल्ली।  भारत में स्मार्ट शहर औऱ शहरीकरण के  क्षेत्र में यूरोपीय संघ भारत के साथ सहयोग गहरा करेगा। 28 यूरोपीय देशों के संगठन यूरोपीय यूनियन और भारत के प्रतिनिधियों के बीच यहां हुई बैठक में  साल 2019-20 के लिये एक ज्वाइंट एक्शन प्लान का भी ऐलान किया गया। इसी के तहत  यूरोपीय यूनियन भारत में स्मार्ट शहरों के विकास में सहयोग करेगी। इसके तहत यूरोपीय बैंक भारत में शहरी परिवहन के लिये एक अरब यूरो की मदद देगा।





भारत और यूरोपीय यूनियन के बीच यहां आयोजित पहली  इंड़िया- ईयू अर्बन फोरम  और सतत  शहरी विकास के लिये पहली संयुक्त बैठक के बाद इस साझा कार्ययोजना की घोषणा की गई।  ईयू-इंडिया अर्बन फोरम की संयुक्त बैठक का उद्घाटन शहरी विकास  मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्र  और यूरोपीय आयोग के  क्षेत्रीय महानिदेशक रुडोल्फ  नीसलर ने किया। शहरीकरण की प्रक्रिया में आधुनिक सुविधाओं के लिये यूरोप औऱ भारत के 12 शहरों की जोडी बनाई गई है।

गौरतलब है कि अक्टूबर, 2017 में भारत यूरोपीय यूनियन शिखर बैठक में  स्मार्ट और सतत शहरी विकास के लिये  एक संयुक्त एक्शन प्लान तैयार करने पर सहमति दी थी। भारत की शहरीकरण चुनौतियों का मुकाबला करने के लिये यूरोपीय यूनियन की कई कम्पनियों और प्रतिष्ठानों ने कदम उठाए हैं। अब दोनों पक्ष इसे लागू करने के लिये अगली कार्रवाई करने पर सहमत हुए हैं।

संयुक्त बैठक में कहा गया कि दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी  अगले दस सालों में शहरों में रहेगी।  इसमें से साल  2030 तक 60 करोड़ आबादी भारतीय शहरों में रहेगी।  इसके मद्देनजर शहरीकरण की चुनौतियों से मुकाबला करने के लिये  दोनों पक्षों ने सहयोग गहरा करने के लिये अपनी प्रतिबद्धता दिखाई है।  इसी के तहत यूरोपीय निवेश बैंक ने  शहरी परिवहन के ढांचागत विकास के लिये अतिरिक्त मदद पर सहमति दी है। इसके लिये एक अरब यूरो की मदद यूरोपीय निवेश बैंक से मिलेगी।  यूरोपीय बैंक ने पहले ही भारत में 1.6 अरब यूरो की परियोजनाओं को मदद  दी है।

Comments

Most Popular

To Top