International

Special Report: मसूद अजहर पर फैसला काफी अहम- फ्रांस

फ्रांस के पीएम और मसूद अजहर

नई दिल्ली। पाकिस्तानी नागरिक औऱ आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के संयुक्त राष्ट्र के फैसले को यहां फ्रांस ने काफी महत्वपूर्ण बताया है औऱ कहा है कि  यह न केवल भारत या फ्रांस बल्कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिये भी आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में एक बड़ी जीत है।





यहां फ्रांस के राजदूत अलेक्जेंडर जीगलर ने कहा कि पहली बार आतंकवाद के मसले पर दुनिया ने आम राय से कोई फैसला किया है। फ्रांस ने इस बारे में संयुक्त राष्ट्र के आतंकवाद विरोधी 1267 प्रतिबंध समिति के प्रस्ताव को समर्थन देने का फैसला एक महीना पहले ही  लिया था।  राजदूत ने कहा कि न्यूयार्क से आई खबर काफी अहम इसलिये है कि आतंकवद के खिलाफ लड़ाई में इसका अहम प्रभाव पडेगा। इस फैसले के बाद जैश ए मुहम्मद के सरगना मसूद  अजहर के वित्तीय लेनदेन पर रोक लगेगी,  उसकी कहीं आवाजाही पर रोक लगेगी और उसे किसी तरह  के हथियारों की सप्लाई पर भी रोक लगेगी।

पाकिस्तान द्वारा मसूद अजहर को आतंकवादी घोषित किये जाने के फैसले में पुलवामा या जम्मू कश्मीर का कोई जिक्र नहीं किये जाने पर खुशी जाहिर करने के बारे में  राजनयिक सूत्रों  ने कहा कि पुलवामा के बाद ही मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने की प्रक्रिया नये सिरे से शुरु की गई थी।  जैश  ए मुहम्मद द्वारा 18 साल पहले जम्मू कश्मीर नैशनल एसेम्बली पर हमला, फिर संसद पर हमला आदि कई आतंकवादी वारदातें की गईं।

सूत्र ने कहा कि भारत और फ्रांस के बीच सामरिक साझेदारी की भावना के तहत कई मसलों पर काफी नजदीकी सहयोग चल रहा है।

राजदूत ने भारत और फ्रांस के बीच साझा नौसैनिक अभ्यास वरुण  के बारे में कहा कि यह अभ्यास गोवा के तट पर हो रहा है जिसका दुसरा चरण अफ्रीकी देश जिबूती के समुद्री इलाके में होगा। इस साझा अभ्यास में फ्रांस के छह नौसैनिक पोत भाग लेंगे। इसमें दो विध्वंसक पोत, एक फ्रिगेट , एक तेलवाहक पोत औऱ एक परमाणु पनडुब्बी शामिल है।

Comments

Most Popular

To Top