International

स्पेशल रिपोर्ट: बिग डेटा के जरिये चीन सैन्य तंत्र को मजबूत करेगा

बिग डेटा एक्सपो-2019

कुईचओ(चीन):  सूचना और इंटरनेट की दुनिया में क्रांति पैदा करने वाली बिग डेटा तकनीक का इस्तेमाल चीन अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने के लिये करेगा।





बिग डेटा के जरिये लाखों आंकड़ों और सूचनाओं का त्वरित विश्लेषण किया जा सकता है। चीन के कुईचओ  प्रांत में चीन सरकार ने मई के अंतिम सप्ताह में बिग डेटा पर एक अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनी और सम्मेलन का आयोजन किया जिसमें 30 से अधिक देशों के अग्रणी सूचना तकनीक विशेषज्ञ और कम्पनियों ने भाग लिया। इसमें भारत की भी दो दर्जन से अधिक कम्पनियां शामिल थीं।

 बिग डेटा के जरिये जहां किसी देश की अर्थव्यवस्था को चमकाया जा सकता है वहीं चीनी विशेषज्ञ अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा तंत्र को भी मजबूत करने के लिये इसके इस्तेमाल करने की योजना लागू कर रहे हैं।  सकते इसी इरादे से चीन की स्टेट काउंसिल ने राष्ट्रीय सामरिक ताकत को मजबूत करने के लिये बिग डेटा के विकास का एक नैशनल एक्शन प्लान तैयार किया है।  चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये विज्ञान, तकनीक और उद्योग के विकास के लिये राज्य प्रशासन ने तीन साल का योजनाबद्ध कार्यक्रम तैयार किया है।

 बिग डेटा के जरिये रक्षा क्षेत्र में चीनी सैन्य बलों की आधारभूत क्षमता को मजबूत किया जा सकेगा। बिग डेटा के जरिये चीन अपने विज्ञान और तकनीक संस्थानों और रक्षा उद्योंगों के बीच बेहतर तालमेल बनाएगा। चीनी विशेषक्षों के मुताबिक बिग डेटा के जरिये सैन्यसाज सामान के विकास और शोध एवं विकास गतिविधियों के बीच तालमेल बेहतर किया जा सकता है।

 सैन्य संस्थानों और विज्ञान एवं तकनीकी संगठनों के बीच आदान प्रदान को गहरा करने के लिये चीन ने विज्ञान  के अग्रणी क्षेत्रों जैसे परमाणु, अंतरिक्ष वैमानिकी, युद्धपोत , वैमानिकी, शस्त्र और इलेक्ट्रानिक्स के विशेषज्ञों के बीच समन्वय स्थापित किया है। सैन्य क्षेत्रों में काम आने वाले असैनिक उच्च तकनीक संस्थानों के बीच भी तालमेल स्थापित किया जा  रहा है। बिग डेटा के जरिये असैनिक और सैन्य क्षेत्रों के बीच एकीकरण किया जा सकता है ताकि उसका राष्ट्रीय सामरिक ताकत मजबूत करने में इस्तेमाल किया जा सके।

 

Comments

Most Popular

To Top