International

Special Report: पाकिस्तान के पर्यटन उद्योग पर ‘आतंक’ की काली छाया

पाकिस्तान में पर्यटन उद्योग

नई दिल्ली।  पाकिस्तान में हर साल विदेशी पर्यटकों की संख्या घटती जा रही है। साल 2018 में पाकिस्तान में कुल 17,823 पर्यटक ही पहुंचे। यहां सामरिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि आतंकवाद की वजह से पाकिस्तान की छवि एक असुरक्षित देश की बन चुकी है और इस वजह से पूरे देश में विदेशी लोगों की अभूतपूर्व सुरक्षा जांच की जाती है।





पिछले सप्ताह  इस्लामाबाद में पर्यटन पर आयोजित एक सम्मेलन में विदेशी पर्यटकों की समस्याओं पर गहन चर्चा की गई। गौरतलब है कि भारत में सालाना पर्यटकों की संख्या एक करोड़ के आंकड़े को 2017 में ही पार कर की गई थी और इससे भारत को करीब 27 अरब डॉलर की आय भी हुई। गोवा के एक बीच पर ही सालाना बीसियों हजार विदेशी पर्यटक जाते हैं।

पर्यवेक्षकों के मुताबिक पाकिस्तान में आये दिन हो रही आतंकवादी वारदातों की वजह से विदेशी पर्यटक पाकिस्तान जाने के बारे में नहीं सोचते। उन्हें लगता है कि कब किस होटल में या किसी चौराहे पर आतंकवादी हमला औऱ विस्फोट हो जाएगा। इसके अलावा जो विदेशी पर्यटक पाकिस्तान जाने की हिम्मत  भी करते हैं वे स्वदेश लौट कर अपने बुरे अनुभव सोशल मीडिया पर लिखते हैं जिससे पाकिस्तान को लेकर सभी के मन में शंका पैदा हो जाती है।

 पाकिस्तान के कई इलाकों जैसे विद्रोह ग्रस्त गिलगित-बालतिस्तान, बलूचिस्तान आदि इलाकों में विदेशी पर्यटकों के लिये कई तरह की बंदिशें लगी हैं जिससे विदेशी पर्यटक काफी हतोत्साहित हो जाते है।

पिछले सप्ताह पाकिस्तान के टूर ऑपरेटरों द्वारा आयोजित सम्मेलन में एक अमेरिकी ट्रैवल ब्लॉग लेखक एलिक्स को निमंत्रण भेजने के बाद भी उन्हें भाग लेने नहीं दिया गया  क्योंकि उनके विचार आलोचना भरे होते हैं। लेकिन एलिक्स ने  इस सम्मेलन में भाग नहीं लेने देने पर अपने विचार सोशल मीडिया पर डाल दिये जिससे पाकिस्तानी टूर  ऑपरेटरों की पोल खुल गई। एलिक्स ने अपने ब्लाग में विस्तार से लिखा कि पर्यटन के लिये ऐतिहासिक और मनोरम स्थलों के बावजूद पाकिस्तान विदेशी पर्यटकों को क्यों नहीं आकर्षित कर रहा है। पाकिस्तान में कई आतंकवादी गुट है जो विदेशी पर्यटकों के लिये खतरा समझे जाते हैं। इसके अलावा विदेशी पर्यटकों की हर जगह गहन सुरक्षा-जांच भी विदेशी पर्यटकों को परेशान करती है।  पाक का अंदरूनी मामलों का मंत्रालय विदेशी पर्यटकों को वीजा भी आसानी से नहीं देता है।

Comments

Most Popular

To Top