International

स्पेशल रिपोर्ट: अटकलों के बीच चीनी राष्ट्रपति के भारत दौरे का ऐलान

पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग
सौजन्य- गूगल

नई दिल्ली। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग का भारत दौरा स्थगित करने की कुछ दिनों से चल रही  भारी अटकलों के बीच  भारत और चीन ने  भारत दौरे का ऐलान किया। राष्ट्रपति शी चिन फिंग 11 और 12 अक्टूबर को चेन्नई में रहेंगे।





इस दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक में दोनों नेता एक बार फिर से आपसी महत्व के विभिन्न दिवपक्षीय और अंतरराष्ट्रीय मसलों पर खुल कर दो टूक बातचीत करेंगे। यहां सरकारी सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि शिखर बैठक के दौरान किसी तरह का समझौता या सहमति के ज्ञापन पर हस्ताक्षर नहीं होंगे औऱ न ही दोनों नेता किसी खास चुने हुए मसलों पर बातचीत करेंगे।

लेकिन इस दौरान सीमा पर परस्पर विश्वास और भरोसा बढ़ाने के लिये कुछ नये कदमों पर सहमति हो सकती है जिसका ऐलान बाद में अधिकारी स्तर की बैठकों के बाद किया जाएगा। सीमा मसले पर बातचीत के लिये दोनों प्रधानमंत्रियों के विशेष प्रतिनिधियों के बीच बैठकों के बारे में सूत्रों ने बताया कि यह दोनों शिखर नेताओं के बीच होने वाली वार्ताओं के नतीजों पर निर्भर करता है।

गौरतलब है कि पिछले साल 28 अप्रैल को चीन के ऊहान शहर में प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति शी के बीच पहली अऩौपचारिक शिखर बैठक हुई थी जिससे पैदा सौहार्दपूर्ण माहौल को ऊहान भावना की संज्ञा दी गई थी। दोनों नेताओं ने इस अनौपचारिक शिखर बैठक को जारी रखने का संकल्प लिया था लेकिन इसके बाद चीन द्वारा भारत विरोधी कई कदम उठाने के बाद दोनों देशों में तल्खी बढ़ने लगी जिससे इस बात की अटकलें लग रहीं थीं कि चीनी राष्ट्रपति भारत का दौरा रद्द कर सकते हैं।

सूत्रों ने बताया कि इस शिखर बैठक के बाद पिछली बार की तरह कोई साझा बयान जारी नहीं होगा और न ही किसी तरह की घोषणा होगी। जहां तक सीमा पर विश्वास निर्माण उपायों की बात है इसका ऐलान दोनों देशों के अधिकारी स्तर की बातचीत के दौरान ही होगा।

चीनी राष्ट्रपति के साथ चीन के स्टेट काउंसेलर यांग च्ये छी भी आएंगे जिनकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ बातचीत होगी। शिखर बैठक के दौरान दोनों देश आपसी व्यापारिक औऱ सुरक्षा  से जुड़े मसलों पर भी बात करेंगे। आतंकवाद का भी मसला उठेगा क्योंकि भारत औऱ चीन समान रुप से इन चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।

विदेश मंत्रालय ने चीनी राष्ट्रपति के भारत दौरै का ऐलान करते हुए कहा है कि   इससे दोनों नेतांओं को दिवपक्षीय, क्षेत्रीय औऱ अंतरराष्ट्रीय मसलों पर विचारों के आदान प्रदान का मौका मिलेगा। आपसी बातचीत के अलावा प्रधानमंत्री मोदी चेन्नई निकट महाबालीपुरम मंदिर परिसर का भ्रमण चीनी राष्ट्रपति को कराएंगे।

सूत्रों ने कहा कि  चूंकि महाबालीपुरम इलाके से चीन का ऐतिहासिक सम्बन्ध रहा है इसलिये चेन्नई का चयन किया गया। प्रधानमंत्री मोदी भी राजधानी दिल्ली से बाहर शिखर बैठकों का आयोजन करने में विश्वास रखते हैं।

Comments

Most Popular

To Top