International

स्पेशल रिपोर्ट: अल कायदा का फरमान- भारतीय सेना पर हमले जारी रखो

भारतीय जवान
फाइल फोटो

नई दिल्ली। खौफनाक आतंकवादी संगठन अल कायदा के सरगना ऐमन अल जवाहिरी ने जम्मू-कश्मीर पर नई चेतावनी जारी की है। इस आतंकवादी संगठन के मुखिया ने एक वीडियो जारी कर कश्मीर को न भूलने और वहां जेहाद चलाने की चेतावनी दी है।





यहां सैन्य सूत्रों का मानना है कि कश्मीर में आतंकवादियों पर दबाव बढ़ने के मद्देनजर अल कायदा के सरगना ने यह वीडियो जारी किया है। यह वीडियो आतंकवादियों को प्रेरित करने के इरादे से जारी किया गया है।

अल कायदा के विभाग अल-शबाब द्वारा कश्मीर को न भूलो शीर्षक से जारी वीडियो से यह भी उजागर होता है कि किस तरह भारतीय इलाके में सीमा पार आतंकवाद को भड़काने में पाकिस्तान अपनी भूमिका निभा रहा है। अल जवाहिरी ने अपने ताजा वीडियो में कहा है कि भारतीय सेना और जम्मू कश्मीर पर करारे हमले किये जाएं।

इस वीडियो में अल जवाहिरी अपने दाएं हाथ में एक एसाल्ट राइफल औऱ बाएं हाथ में कुरान लिये हुए दिख रहा है। जवाहिरी ने कहा कि उसके विचार में फिलहाल कश्मीर में जेहाद की रणनीति भारतीय सेना औऱ कश्मीर पर लगातार हमले जारी रखने की होनी चाहिये ताकि भारतीय अर्थव्यवस्था लहूलुहान हो जाए और भारतीय सेना को मानव संसाधन और हथियारों का भारी नुकसान होता रहे।

खासकर कश्मीर को ध्यान में रखकर इस वीडियो में अल जवाहिरी ने अपने बयान के दौरान हाल में मारे गए आतंकवादी जाकिर मूसा का नाम नहीं लिया लेकिन उसकी तस्वीर कई बार पर्दे पर दिखाई जाती रही। गौरतलब है कि जाकिर मूसा अलकायदा की भारतीय शाखा का संस्थापक था। इस शाखा का नाम अंसार-गजवत-उल-हिंद था।

जवाहिरी ने पाकिस्तानी सेना और सरकार को अमेरिका का पिट्ठू बताया और कहा कि आतंकवादियों को पाकिस्तान के जाल में नहीं फंसना चाहिये। जवाहिरी ने इसकी वजह बताते हुए कहा कि पाकिस्तानी सेना और सरकार की केवल इस बात में रुचि है कि वह मुजाहिदीन का दोहन केवल विशेष राजनीतिक लाभ के लिये करना चाहता है और बाद में उन्हें मरवा दिया जाता है या फेंक दिया जाता है।

साल 2011 में ओसामा बिन लादेन के अमेरिकी सैनिकों द्वारा पाकिस्तान के भीतर घुसकर मारे जाने के बाद अल जवाहिरी को अल कायदा का मुखिया बनाया गया था। उसने कहा कि भारत के साथ लड़ाई केवल धर्मनिरपेक्षता को लेकर सीमाओं पर चल रहा द्वंद्व है जिसका संचालन अमेरिकी खुफिया कर रहा है। जवाहिरी ने यह भी कहा कि कश्मीर की लड़ाई कई तरह की ताकतों के खिलाफ दुनिया के मुसलमानों का जेहाद है। उन्होंने अनाम मुस्लिम विद्वानों से कहा कि इस विचार को आगे बढ़ाएं।

मुस्लिम विद्वानों से उन्होंने यह भी कहा कि आपको यह साफ करना होगा कि कश्मीर, चेचन्या, फिलीपींस, मध्य एशिया, इराक, सीरिया, अरब प्रायद्वीप, सोमालिया, इस्लामी मगरेब और तुर्किस्तान में जेहाद को समर्थन सभी मुसलमानों का निजी दायित्व है। यह तब तक चलता रहना चाहिये जबतक कि मुस्लिम जमीन से काफिरों को निकाल बाहर करने के लिये जरूरी ताकत नहीं हासिल कर ली जाए। जवाहिरी ने आतंकवादियों से यह भी कहा कि कश्मीर में मस्जिदों, बाजार औऱ मुसलमानों के इकट्ठा होने की जगहों को निशाना बनाए।

Comments

Most Popular

To Top