International

फर्श से अर्श तक की कहानी : शरणार्थी मां बेचती थी अंडे, बेटा बन गया राष्ट्रपति

मून जे इन

सोल। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन की कहानी फर्श से अर्श तक पहुँचने की जीती-जागती मिसाल हैं। मून उत्तर कोरियाई शरणार्थी के पुत्र हैं। उनका शुरुआती जीवन ग़रीबी में बीता। उनकी मां उन्हें पीठ पर बिठाकर गुज़ारे के लिए अंडे बेचा करती थीं और आज वह देश का नेतृत्व कर रहे हैं। कोरियाई युद्ध के समय मून के माता-पिता उत्तर से पलायन कर गए थे। 1953 में जब मून जे इन का जन्म हुआ तब उनका परिवार दक्षिणी द्वीप जेओजे में रहता था।





दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन की यह तस्वीर काफी पुरानी है जो उनके चुनाव अभियान के दौरान डेमोक्रेटिक पार्टी ने मार्च 2017 में जारी की थी जिसमें वह सैनिक की यूनिफार्म में नजर आ रहे हैं

मून की जीवनी के मुताबिक उनके पिता युद्धबंदियों के एक शिविर में काम करते थे, जबकि उनकी मां बंदरगाह नगर बुसान की सड़कों पर अंडे बेचा करती थीं। मून उदारवादी राष्ट्रपति रॉह मू-ह्यून के वरिष्ठ सहयोगी के तौर पर काम कर चुके हैं। राष्ट्रपति रॉह मू-ह्यून ने 2009 में भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद आत्महत्या कर ली थी। नए राष्ट्रपति उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध और दबाव बनाए रखते हुए बातचीत करने के पक्ष में हैं, जबकि पूर्व राष्ट्रपति पार्क गुन हे ने उत्तर कोरिया से सभी रिश्ते ख़त्म कर लिए थे।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन सोल में प्रेसिडेंशियल ब्लू हाउस में पहुँचने के दौरान अपनी पत्नी के साथ लोगों का अभिवादन स्वीकार करते हुए

मून जे इन उदारवादी विचार और जुझारू स्वभाव के इंसान हैं। वह मानवीय मूल्यों और समतावादी समाज बनाने के पक्षधर रहे हैं। मून की सोच और सुर दोनों उनके पूर्ववर्ती राष्ट्रपतियों से भिन्न हैं। वह 2012 के राष्ट्रपति चुनाव में पार्क गुन हे से मामूली अंतर से हारे थे। विदित हो कि भ्रष्टाचार के आरोप में पार्क गुन हे अब जेल में बंद हैं, जबकि एक शरणार्थी के बेटे मून दक्षिण कोरियाई सत्ता के शिखर पर पहुंच गए हैं। मून जे-इन को पार्क गुन हे के पिता और पूर्ववर्ती राष्ट्रपति का विरोध करने की वजह से जेल में भी दिन बिताने पड़े थे।

वह उत्तर कोरिया के हथियार कार्यक्रम पर लगाम न कस पाने के लिए पूर्व राष्ट्रपतियों की आलोचना करते रहे हैं। अब अर्थव्यवस्था में सुधार और कोरियाई प्रायद्वीप में शांति उनकी पहली प्राथमिकता है।

Comments

Most Popular

To Top