International

जहाज मुक्त लेकिन अब भी 9 भारतीय लुटेरों के कब्जे में

सोमालियाई-डाकू

मेगादिशू। सोमालियाई सुरक्षा बलों ने अपहृत भारतीय जहाज को अपने ही देश के समुद्री लुटेरों से छुड़ाने में सफलता हासिल कर ली है। हालांकि, लुटेरों ने चालक दल के नौ सदस्यों को बंधक बना लिया है। इस बात की जानकारी सोमालिया के अधिकारियों ने सोमवार को दी। इस महीने की शुरुआत में ‘दी अल कौसर’ नाम के भारतीय जहाज को पिछले हफ्ते  समुद्री लुटेरों ने बंधक बना लिया था।





बीते कई दिनों से सोमालिया के समुद्री लुटेरों द्वारा लूट के मामले सामने आ रहे हैं। गलमुडुग राज्य के वाइस प्रेसिडेंट मोहामेद हाशी अराबे मे न्यूज एजेंसी रॉयटर को बताया कि हमने लुटेरों के कब्जे में लिए भारतीय जहाज पर हमला किया और उसमें सवार लोगों को बचाया। लुटेरों ने 11 क्रू को बंधक बनाया था। हम उनमें से 2 लोगों को बचाने में कामयाब रहे, लेकिन वह लोग 9 क्रू मेंबर्स को बंधक बनाकर ले गए।

लुटेरों से भारतीय चालक दल को छुड़ाने के लिए सुरक्षाबलों द्वारा चेतावनी दी गई थी, लेकिन लुटेरे जब बंधकों को छोड़ने के लिए नहीं तैयार हुए तो सुरक्षा बलों ने कार्रवाई शुरू की। जिसके बाद वह एक छोटी बोट के साथ फरार हो गए। वह अपने साथ भारतीय चालक दल के 9 सदस्यों को भी ले गए हैं। एक समुद्री लुटेरे ने न्यूज एजेंसी से कहा कि वे चालक दल के सदस्यों का इस्तेमाल भारतीय जेलों में बंद 117 समुद्री लुटेरों को छुड़वाने में करेंगे।

अप्रैल महीने की शुरुआत में सोमालिया के समुद्री लुटेरों ने इंडियन शिप सहित 11 भारतीयों को अगवा कर लिया है। जहाजरानी महानिदेशक मालिनी शंकर ने बताया था कि भारतीय ध्वज लगी नौका दुबई से यमन जा रही थी। इसी दौरान सोमालिया तट के पास लुटेरों ने उस पर कब्जा कर लिया। भारतीय नाविकों के संगठन एनयूएसआई के महासचिव अब्दुल गनी सेरांग ने बताया कि अगवा सभी भारतीय नौका चालक दल के सदस्य हैं और मुंबई के मांडवी के रहने वाले हैं। इस नौका पर खाने का सामान लदा था।

Comments

Most Popular

To Top