International

जासूसी के आरोप में भारत के कुलभूषण को पाकिस्तान ने सुनाई मौत की सजा

कुलभूषण जाधव

इस्लामाबाद। जासूसी के आरोप में पाकिस्तान में गिरफ्तार भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी सैनिक अदालत ने मौत की सजा सुनाई है। कुलभूषण पर पाकिस्तानी एजेंसियों ने बलूचिस्तान और कराची में गड़बड़ियां कराने का आरोप मढा है। दूसरी तरफ, भारत सरकार पहले ही इस बात को गलत बता चुकी है कि उसका कुलभूषण से कोई संपर्क है। सरकार का कहना है कि कुलभूषण ने काफी समय पहले स्वैच्छिक रिटायरमेंट (VRS) ले लिया था।





ये है पाकिस्तान में मौत की सजा पाए कुलभूषण की कहानी!

कुलभूषण जाधव

ये है पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी की रिलीज

पाकिस्तानी मीडिया की खबरों के मुताबिक़ सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने पुष्टि की है कि कुलभूषण को पाकिस्तान आर्मी एक्ट के तहत दर्ज केस में यह सजा सुनाई गई।

इन खबरों में कुलभूषण को भारतीय एजेंसी रा (R&AW) का एजेंट बताया गया है। पाकिस्तानी टीवी चैनल जियो टीवी के मुताबिक कुलभूषण को 3 मार्च 2016 को बलूचिस्तान के मशकल इलाके से गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तानी एजेंसियां उसे भारतीय सेना में वर्तमान में तैनात अफसर मानती हैं।

सैनिक अदालत (फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल FGCM) ने कुलभूषण को पाकिस्तानी आर्मी एक्ट 1952 की धारा 59 और सरकारी गोपनीयता क़ानून 1923 की धारा 3 के तहत दोषी पाया है। अदालत का ये भी दावा है कि कुलभूषण जाधव ने मजिस्ट्रेट के सामने अपना जुर्म कबूल किया है।

कुलभूषण रिटायरमेंट के बाद 2003 में व्यापार के सिलसिले में ईरान चले गए थे जहां उनका अपहरण किया गया। पाकिस्तान ने कुलभूषण के जुर्म के इकरारनामे का वीडियो जारी किया था जिसे केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने ‘फेक वीडियो’ बताकर खारिज किया था।

Comments

Most Popular

To Top