International

पाकिस्तानी आर्मी चीफ का बार्डर दौरा बड़ी घटना का संकेत है ?

पाकिस्तान सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा

नई दिल्ली। शनिवार को पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने तीसरी बार नियंत्रण रेखा का दौरा किया। भारतीय सेना द्वारा दी जा रही चुनौतियों को देखते हुए पाकिस्तान डरा दिखाई पड़ रहा है। यही वजह है कि पाकिस्तान आर्मी चीफ ने अपने जवानों के हौसले को बढ़ाने के लिए कश्मीर को समर्थन देने की बात का सहारा लिया है। पाकिस्तान ने कहा है कि भारत के दुस्साहस का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।





गौरतलब है कि इससे पहले जब भी बाजवा एलओसी पर सैनिकों से मिले हैं तब पाक सेना ने किसी न किसी बड़ी घटना को अंजाम दिया है। पिछली बार बाजवा के सैनिकों से मिलने के बाद पुंछ के कृष्णा घाटी में दो भारतीय सैनिकों पर हमला कर पाकिस्तानी सैनिकों ने उनके शव को क्षत-विक्षत कर दिया था।

कश्मीर में समर्थन देने की बात कही

सेना प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान के सामने खड़ी सुरक्षा चिंता से हम अवगत हैं और सभी मोर्चों पर हर तरह के खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम हैं। जनरल बाजवा ने इस दौरान जम्मू कश्मीर में प्रदर्शन और पत्थरबाजी कर रहे कश्मीरी युवकों का समर्थन किया और कहा कि वे ‘कश्मीरी भाइयों के आत्मनिर्णय के अधिकार’ का समर्थन करते हैं।

पाकिस्तानी सैनिकों से की मुलाकात

मुजफ्फराबाद सेक्टर के दौरे में बावजा ने अग्रिम चौकियों का दौरा किया और पाकिस्तानी सैनिकों से मुलाकात की, जहां उन्हें स्थानीय कमांडर ने नियंत्रण रेखा पर बदस्तूर जारी संघर्ष विराम के उल्लंघन और अपनी तैयारियों के बाबत ब्योरा दिया। वहीं, सेना प्रमुख बाजवा ने इस दौरान सैनिकों से बातचीत में उसकी तैयारियों और संकट के समय दिखाए गए उनके जज्बे की सराहना की।

भारतीय आर्मी चीफ के बयान के बाद आया बयान 

हाल ही में भारतीय सेना के आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि भारतीय सेना ढाई मोर्चे के लिए पूरी तरह तैयार है। जनरल रावत ने यह बात पाकिस्तान, चीन की ओर से बढ़ते तनाव और आंतरिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कही थी, उनके इस बयान के बाद ही शनिवार को पाकिस्तानी आर्मी चीफ ने ये बयान दिया है।

Comments

Most Popular

To Top