International

जाधव को फांसी से बचाने के पाकिस्तान ने बताए ये उपाय

कुलभूषण जाधव

नई दिल्ली। इंटरनेशनल कोर्ट आफ जस्टिस यानी अंतर्राष्ट्रीय अदालत (ICJ) में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा के खिलाफ अपील पर सुनवाई अभी पूरी नहीं हुई है। लेकिन इस बीच भारत में पाकिस्तान के राजदूत अब्दुल बासित ने कहा है कि जाधव की सजा पर पुनर्विचार की गुंजाइश है।





  • भले ही ICJ का फैसला आने में दो-तीन साल लग जाएं, लेकिन उससे पहले फांसी नहीं दी जाएगी

समाचार पत्र ‘द हिंदू’ के साथ एक साक्षात्कार में बासित ने कहा कि जब तक कुलभूषण जाधव का मामला ICJ में है, तब तक उन्हें फांसी नहीं दी जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि कहा कि भले ही ICJ का फैसला आने में दो-तीन साल लग जाएं, लेकिन उससे पहले फांसी नहीं दी जाएगी।

पाकिस्तानी राजदूत ने यह भी कहा कि ICJ के अलावा कुलभूषण जाधव के पास फांसी की सजा से बचने के उपाय हैं। अगर ‘कोर्ट ऑफ अपील’ से भी जाधव की अपील रद हो जाती है तो उनके पास अपील का मौका है। उन्होंने कहा कि जाधव पहले सेनाध्यक्ष से दया की फरियाद कर सकते हैं और बाद में राष्ट्रपति के पास भी दया याचिका दी जा सकती है।

  • पाकिस्तान ने 46 वर्षीय पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को मार्च, 2016 में गिरफ्तार किया था। बाद में पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जाधव को जासूसी और विध्वंसक गतिविधियों के आरोपों में मौत की सजा सुनाई थी। सजा के खिलाफ भारत ने 8 मई को ICJ का दरवाजा खटखटाया था, जिसके बाद ICJ ने फांसी पर रोक लगा दी थी। अदालत के इस फैसले के बाद पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा था, लेकिन यह बात भी उठी थी कि वे जाधव को फांसी दे सकते हैं। फिलहाल यह मामला ICJ में लंबित है।

Comments

Most Popular

To Top