International

गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को 5वां प्रांत घोषित करने की तैयारी

पाकिस्तान का झंडा

इस्लामाबाद। रणनीतिक अहमियत को भांपते हुए विवादित क्षेत्र गिलगित-बाल्टिस्तान को पाकिस्तान अपना 5वां प्रांत घोषित करने की योजना बना रहा है। गुलाम कश्मीर से सटा यह इलाका विवादित क्षेत्र का हिस्सा है। ऐसे में पाकिस्तान का यह कदम भारत की चिंताओं को बढ़ाने वाला है।





पाकिस्तान के अंतरप्रांतीय समन्वय मंत्री रियाज हुसैन पीरज़ादा ने जियो टीवी को बताया कि विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज की अगुवाई वाली एक समिति ने गिलगित-बाल्टिस्तान को प्रांत का दर्जा देने की सिफारिश की है। मौजूदा स्थिति पाकिस्तान में गिलगित-बाल्टिस्तान एक अलग भौगोलिक क्षेत्र माना जाता है। फिलहाल यह स्वायत्त क्षेत्र है। यहाँ विधानसभा और एक चुना हुआ मुख्यमंत्री है।

72,971 वर्ग किलोमीटर में फैले इस इलाके की अनुमानित जनसंख्या 18 लाख है। इसकी सीमाएं पश्चिम में खैबर-पख्तूनख्वा से, उत्तर में अफगानिस्तान के वाखान गलियारे से, उत्तर-पूर्व में चीन के शिनजियांग प्रांत से, दक्षिण में गुलाम कश्मीर और दक्षिण-पूर्व में जम्मू-कश्मीर से लगती है।

पाकिस्तान इस क्षेत्र को गुलाम कश्मीर से अलग मानता है, जबकि भारत के अनुसार यह विवादित क्षेत्र का हिस्सा है। पीरज़ादा ने बताया कि इस क्षेत्र को प्रांत का दर्जा देने के लिए संविधान में संशोधन करना होगा।

46 अरब डॉलर की लागत से बनने वाला चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) इस इलाके से होकर गुजरेगा। भारत की आपत्तियों को दरकिनार कर चीन और पाकिस्तान इस परियोजना पर आगे बढ़ रहे हैं। माना जा रहा है कि गिलगित-बाल्टिस्तान के अनिश्चित दर्जे को लेकर चीन की चिंता को देखते हुए ही पाकिस्तान ने उसका दर्जा बदलने का फैसला किया है।

रिपोर्ट में विशेषज्ञों के हवाले से कहा गया था कि यह कदम पूरे कश्मीर क्षेत्र के भविष्य को लेकर पाकिस्तान के रुख में ऐतिहासिक बदलाव का इशारा दे सकता है।

Comments

Most Popular

To Top