International

कुलभूषण मामले में एमनेस्टी ने पाकिस्तान को लताड़ा

नई दिल्ली/लंदन: भारत के पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में मौत की सजा सुनाए जाने पर एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा कि पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जाधव के मामले में अंतरराष्ट्रीय मानकों का उल्लंघन किया है। साथ ही उसने पाकिस्तानी सैन्य अदालत के फैसले की क्षमता पर भी सवाल उठाए।





एमनेस्टी के दक्षिण एशिया निदेशक बिराज पटनायक ने कहा, ‘कुलभूषण जाधव को मौत की सजा देना दर्शाता है कि किस तरह पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अंतरराष्ट्रीय मानकों की धज्जियां उड़ाई हैं।’ उन्होंने आगे कहा, ‘बचावकर्ताओं को उनके अधिकारों से वंचित करना और कुख्यात गोपनीय तरीके से काम कर सैन्य अदालतें न्याय नहीं करतीं बल्कि उसका मजाक उड़ाती हैं। उनकी व्यवस्था गलत है जिन्हें केवल सैन्य अनुशासन के मुद्दों से निपटना चाहिए न कि अन्य अपराधों से।’ पटनायक ने यह भी कहा कि एमनेस्टी हमेशा किसी भी स्थिति में मौत की सजा का विरोध करती है।

कुलभूषण को फांसी दी तो नतीजे भुगतने को तैयार रहे पाकिस्तान : सुषमा

गौरतलब है कि पाकिस्तान ने सोमवार को कहा कि रॉ के एजेंट और नेवी अफसर कुलभूषण सुधीर जाधव उर्फ हुसैन मुबारक पटेल को मौत की सजा सुनाई गई है। उन पर पाकिस्तान के खिलाफ विध्वंसक गतिविधियां चलाने और जासूसी करने का आरोप था। भारत ने इन सभी आरोपों को खारिज किया था।

भारत ने पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव को मौत की सजा देने के बारे में चेतावनी भरे लहजे में कहा है कि वह अगर ऐसा करता है तो इसका अंजाम भुगतने के लिए भी तैयार रहें। वहीं, पाकिस्ता के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपनी गलती सुधारने की जगह भारत को प्रत्युत्तर में कहा है कि पाकिस्तान की सेना किसी भी स्थिति में तैयार है।

Comments

Most Popular

To Top