International

‘ओसामा को शरण देनेवाला खुद को बता रहा आतंक पीड़ित’

यूएन में भारत

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत ने पाकिस्तान को एक बार फिर आईना दिखाया है। भारत ने यूएन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की कड़ी निंदा की जिसमें उन्होंने पाकिस्तान को आतंक का शिकार होने का तर्क दिया था। भारत ने राइट टू रिप्लाई के अधिकार के तहत ये बातें कहीं। भारत ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवादियों का गढ़ है और दुनिया को मानवाधिकार पर पाकिस्तान के ज्ञान की जरूरत नहीं है। पाकिस्तान अपनी ही जमीन पर मानवाधिकारों का उल्लंघन करता रहा है। भारत ने यह भी कहा कि पाकिस्तान को यह समझ लेना चाहिए कि कश्मीर हमारा अभिन्न अंग है।





भारत ने यूएन में कहा कि यह असामान्य स्थिति है, जिस देश ने आतंकी ओसामा बिन लादेन की सुरक्षा की और मुल्लाह उमर को आश्रय दिया वही अब खुद आतंक का शिकार होने का तर्क दे रहा है। पवित्र जमीन की खोज करते हुए पाकिस्तान आतंकियों के लिए पवित्र जमीन बन गया। अभी स्थिति यह है कि पाकिस्तान आतंक का प्रर्याय बन गया है।

पाकिस्तान को भारत ने आतंकवादियों को पैदा करने वाला देश बताया। भारत ने कहा कि पाकिस्तान टेररिस्तान है जो दुनिया में आतंकियों को एक्सपोर्ट करता है।

भारत ने पाकिस्तान को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि पूरी दुनिया में जो देश आतंकियों की सप्लाई करता है, वह हमें मानवाधिकार का पाठ पढ़ाता है। जो देश खुद के लोगों पर जुल्म करता हो, दुनिया को उससे मानवाधिकार सीखने की जरूरत नहीं है।

पाकिस्तान आतंक को किस तरह खत्म करना चाहता है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यूएन के नामित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा प्रमुख के नेता हाफिज मोहम्मद सईद को अब एक राजनीतिक दल के नेता के रूप में वैधता की मांग की गई है।

यूएन मुख्यालय के बाहर बलूचिस्तान समर्थकों की नारेबाजी

न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय के बाहर बलूचिस्तान के समर्थन में नारेबाजी की गई। साथ ही पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए गए। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने ब्लूचिस्तान और सिंध की आजादी की मांग के साथ-साथ पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित करने की मांग की।

Comments

Most Popular

To Top