International

बौखलाए पाक ने समझौता एक्सप्रेस पर निकाली अपनी खीझ, फिर भी यात्री भारत आए

समझौता एक्सप्रेस

नई दिल्ली। भारत सरकार के जम्मू-कश्मीर के मामले में लिए गए फैसले के बाद पाकिस्तान को कुछ समझ में नहीं आ रहा है। वह बौखलाया हुआ है। आज उसने भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली समजौता एक्सप्रेस रोक दी है। यह जानकारी पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से मिली है। ताजा जानकारी के मुताबिक रोक के बावजूद समझौता एक्सप्रेस से कुल 117 यात्री भारत पहुंचे। इन यात्रियों में से 76 भारतीय मूल के हैं और 41 पाकिस्तानी नागरिक हैं। इससे पहले पाकिस्तान ने राजनयिक संबंधों में कमी की थी।





मीडिया खबरों के मुताबिक पाकिस्तान ने अपने ट्रेन चालक और गार्ड को समझौता एक्सप्रेस के साथ भेजने से मना कर दिया। अटारी अंतर्राष्ट्रीय रेलवे स्टेशन के सुपरिटेंडेंट अरविंद कुमार गुप्ता के मुताबिक आज पाकिस्तान से समझौता एक्सप्रेस को भारत आना था। लेकिन पाकिस्तान से संदेश आया कि भारतीय रेल अपने ड्राइवर और क्रू मेंबर को भेज कर समझौता एक्सप्रेस रेलगाड़ी को ले जाए। उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी रेलवे ने यह फैसला सुरक्षा कारणों से लिया है। अब ट्रेन ड्राइवर और गार्ड जिनके पास वीजा है उन्हें समझौता एक्प्रेस लेने भेजा जाएगा।

यह पहला मौका नहीं है जब समझौता एक्प्रेस को रोका गया है। इस साल की बालाकोट स्ट्राइक, संसद पर हमला, बेनजीर भुट्टो पर हमले आदि के बाद भी इस ट्रेन को रोक दिया गया था।

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच चलने वाली यह ट्रेन दिल्ली जंक्शन से पंजाब स्थित अटारी बॉर्डर तक जाती है। अटारी से बाघा बॉर्डर तक 03 किलोमीटर की सीमा पार करती है। इस दौरान सीमा सुरक्षाबल के जवान घोड़ा गाड़ी से इसकी निगरानी करते हैं। आगे-आगे चलकर पटरियों की पड़ताल भी करते हुए चलते हैं। सीमा पार करने के बाद यह ट्रेन लाहौर जाती है।

समझौता एक्सप्रेस का इतिहास काफी पुराना है इसकी नींव 1971 के भारत-पाक के बाद हुए दोनों देशों के बीच शिमला समझौते में रखी गई थी।

Comments

Most Popular

To Top