International

…और अधूरा रह गया गोरखा फौजी मिन बहादुर का सपना!

काठमांडू: ‘एवरेस्ट…! दुनिया की सबसे ऊंची चोटी। एक बार फिर से मैं इस पर फतह करके अपना ही रिकॉर्ड तोड़ना चाहता हूं क्योंकि मेरे रिकॉर्ड को किसी ने तोड़ दिया है।’ यह सपना था 86 वर्षीय पूर्व गोरखा फौजी मिन बहादुर शेरचान का। लेकिन उनका सपना पूरा होता इससे पहले ही वह दुनिया से चल बसे। मिन बहादुर शेरचान की मौत 6 मई को माउंट एवरेस्ट स्थित बेस कैम्प में हो गई। उन्होंने स्थानीय समयानुसार शाम 5:14 बजे अंतिम सांस ली। उन्होंने बीते 16 अप्रैल को एवरेस्ट पर चढ़ाई शुरू की थी।





चढ़ाई शुरू करने से पहले उन्होंने मीडिया से कहा था, ‘मैं एवरेस्ट पर चढ़ाई करने वाला सबसे अधिक उम्र का पर्वतारोही बनना चाहता हूं। मैं ऐसा दुनियाभर के लोगों को प्रेरित करने के लिए करना चाहता हूं। उन्होंने कहा था, ‘मैं उम्र के मामले में बहुत बुजुर्ग हूं, लेकिन अभी भी मुझमें युवाओं जैसा साहस है।’ शेरचान के कैम्पेन कोआर्डिनेटर ने कहा कि वह रिकॉर्ड बनाने के साथ ही विश्व में शांति और धरती की सुरक्षा के लिए एवरेस्ट पर चढ़ाई कर रहे थे।

मिन बहादुर एवरेस्ट फतह का अपना पिछला सर्टिफिकेट दिखाते हुए (फ़ाइल फोटो)

2008 में पहली बार की थी एवरेस्ट फतह

2008 में मिन ने 76 साल की आयु में पहली बार एवरेस्ट फतह किया था। उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज था। लेकिन यह रिकॉर्ड 2013 में चीन के योशिनो मियूरो ने तोड़ दिया। मियूरो ने 80 वर्ष की उम्र में एवरेस्ट को फतह कर यह खिताब अपने नाम किया था। 2008 के उस एवरेस्ट मिशन में मियूरो भी शामिल थे लेकिन उस वक्त मिन ने बाजी मार ली थी। हालांकि, वह अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ना चाहते थे।

मिन बहादुर और चीन के योशिनो मियूरो (दाएं)

2015 में आधे रास्ते से आना पड़ा था वापस

दरअसल, जब 2013 में विश्व रिकॉर्ड टूटने के बाद से ही मिन बहादुर तैयारियां शुरू कर चुके थे। 2015 में भी उन्होंने इसके लिए कोशिश की थी, लेकिन नेपाल में आए भूकंप और फिर हिमस्खलन की वजह से उन्हें आधे रास्ते से ही वापस आना पड़ा था। अगर हिमस्खलन नहीं आया होता तो उनका दोबारा एवरेस्ट फतह का ख्वाब 2015 में ही पूरा हो गया होता।

गोरखा आर्मी के सदस्य थे मिन

मिन बहादुर पूर्व ब्रिटिश गोरखा आर्मी के सदस्य रह चुके हैं। मिन बहादुर ने बेहद कम उम्र में ब्रिटिश गोरखा आर्मी ज्वाइन की थी। मिन कहते थे कि वह हमेशा से ही चुनौतियों को पसंद करते हैं। उनका कहना था कि वह दुनिया छोड़ने से पहले कुछ अलग करके दिखाना चाहते हैं, जो पहले किसी ने न किया हो।

Comments

Most Popular

To Top