International

उत्तर कोरिया की धमकी, अमेरिकी विमान वाहक पोत को डुबो कर दिखाएंगे ताकत

उत्तर कोरिया

सोल। उत्तर कोरिया ने कहा कि वह अपनी सैन्य क्षमता के प्रदर्शन के लिए अमेरिकी विमान वाहक पोत को डुबाने को तैयार है, जबकि पश्चिमी प्रशांत महासागर में नौसैनिक अभ्यास के लिए जापान के दो जहाज अमेरिकी नौ सैनिक बेड़े के साथ शामिल हो गए हैं। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट से मिली। इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने चीनी समकक्ष शी जिनपिंग और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे से टेलीफोन पर बातचीत की। ट्रम्प ने इस दौरान दोनों एशियाई नेताओं के साथ देश के चारों ओर बढ़ रहे तनाव के बीच उत्तर कोरिया की स्थिति पर चर्चा की।





उल्लेखनीय है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने उत्तर कोरिया की उकसावे की कार्रवाई के जवाब में अमेरिकी विमान वाहक पोत यूएसएस कार्ल विन्सन को कोरिया प्रायद्वीप की ओर रवाना होने का आदेश दिया है। लेकिन अभी तक यह पता नहीं चला है कि यह पोत किस इलाके की ओर प्रस्थान कर रहा है।

उत्तर कोरिया के सरकारी समाचार पत्र रोडोंग सिनमुन ने कहा है, “हमारे क्रांतिकारी बल एक हमले में परमाणु आयुध से लैस विमान अमेरिकी वाहक पोत को डुबाने को तैयार हैं।”

अमेरिकी नौसेना एयरक्राफ्ट करियर

अमेरिकी नौसेना एयरक्राफ्ट करियर USS Carl Vinson दक्षिण कोरिया के बुसान में बुसान पोर्ट के करीब। यह करियर अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच सालाना संयुक्त सैन्य अभ्यास में भागीदारी के लिए पहुंचा है। इस अभ्यास को Foal Eagle नाम दिया गया है।

अखबार ने अमेरिकी विमान वाहक पोत को ‘Gross Animal’ कहकर संबोधित करते हुए कहा कि उसके ऊपर एक हमला “हमारी सैन्य क्षमता के प्रदर्शन का सही उदाहरण होगा।” विदित हो कि उत्तर कोरिया मंगलवार को अपनी सेना की 85 वीं वर्षगांठ मनाएगा। इस अवसर पर पूर्व में वह नए हथियारों का प्रदर्शन करता रहा है।

समाचार एजेंसी रॉयटर के अनुसार, जापानी नौसेना का प्रदर्शन इस चिंता को प्रतिविंबित करता है कि उत्तर कोरिया परमाणु या रासायनिक हमला कर सकता है।

ट्रम्प ने चीन के राष्ट्रपति शी और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे से फोन पर बात की

उत्तर कोरिया

शी जिनपिंग, शिंजो अबे और ट्रम्प

बताया जा रहा है कि आज सुबह फोन पर हुई बातचीत में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि बावजूद इसके कि उत्तर कोरिया नाभिकीय परीक्षण की तैयारी कर रहा है, संयम बरतना चाहिए। वैसे ट्रम्प और शी की यह तीसरी टेलीफोनिक वार्ता है। चीनी टेलीविजन के रिपोर्ट के अनुसार शी ने ट्रम्प से कहा कि चीन उत्तर कोरिया के किसी भी ऐसे परीक्षण का विरोध करता है लेकिन उन्होंने यह भी इशारा किया कि अमेरिका को संयम दिखाना चाहिए।

शी से बातचीत के साथ-साथ ट्रम्प ने आज सुबह जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे से भी फोन पर बात की। यह जानकारी शिंजो ने खुद दी। शिंजो ने राष्ट्रपति को बताया कि वह ट्रम्प के रवैये का समर्थन करते हैं। इसके अलावा अभी विकल्प खुले हुए हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया का नाभिकीय और मिसाइल कार्यक्रम न सिर्फ अंतरराष्ट्रीय समुदाय की सुरक्षा के लिए गंभीर चुनौती है बल्कि हमारे देश के लिए भी है। शिंजो ने कहा कि हम उच्चस्तरीय सावधानी और निगरानी जारी रखेंगे। जरूरत पड़ी तो हम दृढ़ता से जवाब देंगे।

हालांकि व्हाइट हाउस ने ट्रम्प की शी और शिंजो से फोन वार्ता पर तत्काल कोई बयान नहीं जारी किया है। उधर चीन के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक़ ग्रीस की यात्रा के दौरान विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि उत्तर कोरिया अपनी ताकत का प्रदर्शन पहले ही बहुत कर चुका है और इस समय स्थिति विकट है। उन्होंने शान्ति की अपील की। वांग ने कहा हमें शान्ति और विवेक से काम लेना चाहिए।

अमेरिकी नागरिक को किया गिरफ्तार

उत्तर कोरिया ने शुक्रवार को एक अमेरिकी नागरिक को प्योंगयोंग अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उस समय गिरफ्तार किया जब वह देश छोड़कर जा रहा था। इसके साथ देश में गिरफ्तार किए गए अमेरिकियों की कुल संख्या तीन हो गई है। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट से मिली।

समाचार एजेंसी यॉनहप के अनुसार, 50 वर्षीय अमेरिकी नागरिक राहत गतिविधियों पर चर्चा के लिए करीब एक महीने से उत्तर कोरिया में रह रहे थे। उनका उपनाम किम है।

अज्ञात सूत्रों से पता चला है कि उक्त व्यक्ति चीन के यानबियान विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (यूस्ट) के पूर्व प्रोफेसर हैं। इस विश्वविद्यालय की एक अनुषंगी इकाई प्योंगयोंग में भी है। उधर, दक्षिण कोरियाई सेवा के एक अधिकारी ने कहा कि उसे कथित गिरफ्तारी के बारे में कोई जानकारी नहीं है। यूस्ट में फोन करने पर कोई जवाब नहीं मिलता है।
मानवाधिकार उल्लंघन के लिए बदनाम उत्तर कोरिया पूर्व में हाई प्रोफाइल लोगों को अमरिका से आने को बाध्य करने के लिए अमेरिकी नागरिकों को हिरासत में लिया करता था, जबकि दोनों के बीच औपचारिक राजनयिक संबंध नहीं हैं।

Comments

Most Popular

To Top