International

मैनचेस्टर अटैक : 22 निर्दोष लोगों की जान लेने वाले आत्मघाती हमलावर की पहचान हुई

सलमान अबेदी (फाइल फोटो)

मैनचेस्टर। पाप सिंगर एरियाना ग्रांडे के कंसर्ट के दौरान बम ब्लास्ट कर मंगलवार को आठ साल की बच्ची समेत 22 निर्दोष लोगों की जान लेने वाले और 64 अन्य लोगों को जख्मी करने वाले आत्मघाती हमलावर की पहचान हो गई है। इसका नाम सलमान अबेदी (22 साल) है, जो मैनचेस्टर (ब्रिटेन) में पैदा हुआ है। अब तक इस हमले में मारे गए लोगों में तीन लोगों की पहचान हुई है जिनमें आठ साल की सैफ़ी रोज़ रॉसोस, जॉर्जीना कैलेंडर और 28 साल के एटकिनसन शामिल हैं। उधर कल 23 साल के एक अन्य युवक को भी मंगलवार की सुबह गिरफ्तार किया गया था। बताया जाता है कि उसका इस घटना से कनेक्शन है। गृह सचिव एम्बर रुड ने आज सुबह कहा कि मुमकिन है कि अबेदी ने यह काम अपने से न किया हो।





अबेदी लीबियाई माता-पिता की संतान है। उसके माता-पिता ने नब्बे के दशक में मैनचेस्टर में शरण ली थी। पुलिस को अबेदी के मैनचेस्टर स्थित घर पर छापेमारी के बाद जो जानकारियाँ मिलीं उसके बाद उन्होंने उसकी पहचान उजागर की।इस हमले की आतंकी संगठन आईएस ने ली है। आईएस ने सोशल मीडिया पर एक बयान में कहा है कि गुट के एक समर्थक ने यह हमला किया। ब्रिटेन के अखबार ‘द सन’ की मानें तो अबेदी ने अपने परिवार के साथ सीरिया के दौरे के दौरान गुप्त जेहादी प्रशिक्षण लिया था। वह हाल के वर्षों में उत्तर अफ्रीकी देश अक्सर आता-जाता रहता था, जो कि ISIS के लिए काफी मुफीद देश है। चूंकि ISIS ने हमले की जिम्मेदारी ली है तो माना जा रहा है कि यह काम करने वाला वह अकेला शख्स नहीं होगा।

इस बीच प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने आशंका जताई है कि ब्रिटेन में आगे इस तरह के और भी हमले हो सकते हैं। बीते 10 साल में ब्रिटेन के लिए यह चुनौतीपूर्ण समय है। उन्होंने कहा कि वह सड़कों पर हथियारबंद जवानों को उतार सकती हैं क्योंकि और हमले हो सकते हैं।

आतंकवाद का गढ़ बन रहा है मैनचेस्टर

पिछले कुछ समय में ब्रिटेन में आतंकवादी हमलों की संख्या बढ़ी है।

डोनाल्ड ट्रम्प ने इस हमले के प्रति दुख व्यक्त करते हुए हमलावरों को बुरा हीरो बताया है। आत्मघाती हमलावर अबेदी साउथ मैनचेस्टर में पला बढ़ा है, गौरतलब है कि मैनचेस्टर पिछले कुछ समय से उग्रवादियों और आतंकवादियों का गढ़ बन गया है। इन कुछ साल में कई लोगों के कनेक्शन लीबिया से मिले हैं। करीब 16,000 लीबियाई ब्रिटेन में रहते हैं।

चार भाई बहनों में सबसे छोटा है अबेदी

वीडियो के अनुसार इस हैट वाले शख्स को अबेदी के रूप में पहचाना गया है

पुलिस के मुताबिक जांच के दौरान जुटाए गए कुछ वीडियोज में एक शख्स को नोटिस किया गया है जिसने हैट पहना हुआ है इस हैट वाले शख्स को अबेदी बताया जा रहा है। अबेदी चार भाई-बहन हैं। सबसे बड़े भाई का जन्म लंदन में हुआ था और सबसे छोटे भाई और बहन का जन्म मैनचेस्टर में हुआ था। अबेदी की स्कूल की पढ़ाई मैनचेस्टर में ही हुई थी। वह मैनचेस्टर यूनाइटेड फ़ुटबॉल टीम का समर्थक था और एक बेकरी में काम करता था। अबेदी का परिवार शहर में कई पतों पर रह चुका है, जिसमें फेलोफ़ील्ड में एल्समोर रोड पर स्थित वह घर भी शामिल है जहां पुलिस ने छापेमारी की थी।
पड़ोसी बताते हैं कि अबेदी परिवार के घर पर साल के कुछ विशेष दिनों में लीबियाई झंडा लगा रहता था। अबेदी अपने भाई बहनों के साथ शहर के दक्षिण भाग में स्थित एक कौंसिल की सम्पत्ति पर पला बढ़ा। उसने सैलफोर्ड यूनिवर्सिटी में 2015 में बिजनेस एंड मैनेजमेंट कोर्स में एडमिशन लिया था लेकिन उसे यूनिवर्सिटी से बाहर कर दिया गया। उसके बड़े भाई इस्माईल (23 वर्ष) से पुलिस मैनचेस्टर धमाके के बारे में पूछताछ कर रही है। अबेदी के पड़ोसियों के मुताबिक वह एक शांत लड़का था और उसके बारे में ऐसा सुनकर वे हैरान हैं। उसके एक स्कूल दोस्त के मुताबिक अबेदी हाल ही में लीबिया दौरे से लौटा था। सुरक्षा सर्विस पिछली रात से ही इसकी जांच में लगी है।

हाल ही में जुड़ा था कट्टर इस्लाम से

मैनचेस्टर के अरीना के इस स्थान पर हुआ हमला,

अबेदी के माता पिता ने नब्बे के दशक में गद्दाफी शासन से भागकर ब्रिटेन में शरण ली थी। हाल ही में अबेदी ने कट्टर इस्लामी राह अपना ली थी। अबेदी के लीबिया के आतंकवादी अब्दुलरौफ अब्दुल्ला और उसके भाई मोहम्मद से भी संबंध थे। बताया जा रहा है कि उसके राफेल होस्टे से भी संपर्क में था, जिसने एक वर्ष पूर्व एक ड्रोन स्ट्राइक में मारे जाने से पहले सीरिया में आतंकी समूह के लिए लड़ने के लिए दर्जनों ब्रिटेन यंगस्टर्स की भर्ती की थी।

पहले भी हुए हैं हमले

इस हमले से पहले भी ब्रिटेन में कई घटनांए हुई हैं जिनमें आतंकवादी संगठनों का हाथ रहा है वहीं इस घटना के बाद अन्य हमलों की आशंका के चलते ब्रिटिश सरकार ने अलर्ट जारी किया है।

डेनमार्क हमला 2015: कोपेनहेगन में कैफे और यहूदी प्रार्थना स्थल पर आतंकवादी हमला हुआ था। इस हमले में तीन लोग मारे गए थे। हमलावर मुठभेड़ में मारा गया था।
स्टॉकहोम हमला 2017: आठ अप्रैल को स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में एक लॉरी घुसी और चार लोग मारे गए इसे भी एक आतंकवदी हमला बताया गया था।
ब्रिटेन संसद अटैक: इस आतंकी घटना में पांच लोगों की मौत हो गई थी। 2005 में लंदन हमले में 52 लोगों की जान गई थी। 15 जनवरी को चार्ली एब्दो पर हमला हुआ था। पेरिस में नवंबर 2015 में बाटाक्लेन अटैक हुआ।

Comments

Most Popular

To Top