International

लंदन हमले की जिम्मेदारी IS ने ली, अब तक 12 गिरफ्तार

लंदन हमला

लंदन। लंदन में शनिवार की रात तीन जगह पर हुए हमलों की जिम्मेदारी आतंकवादी गुट इस्लामिक स्टेट (IS) ने ली है। इन घटनाओं में घायल हुए लोगों में से सात की जान जा चुकी है और 48 घायलों में से भी कुछ की हालत नाजुक बनी हुई है। अब तक इस मामले में 12 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। मारे गए तीनों हमलावरों की पहचान की जा चुकी है और उनके नेटवर्क का पर्दाफाश करने के लिए छापों का दौर जारी है। कुछ फुटेज ऐसे भी सामने आए हैं जिसमें एक हमलावर ज़िंदा नजर आ रहा है। इस बीच पुलिस की तरफ से ट्वीट कर लंदन ब्रिज और बरो मार्केट की घटनाओं को आतंकवादी घटनाएं घोषित किया गया है।





बीबीसी ने चश्मदीदों के हवाले से बताया है कि लंदन ब्रिज पर रात 10 बजे के करीब राहगीरों को टक्कर मारने के बाद वैन से तीन शख्स चाकू के साथ उतरे और लोगों पर हमला शुरू कर दिया। वहीं कुछ चश्मदीदों ने बताया कि उन्होंने वहां गोली चलने की भी आवाज सुनी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, परिवहन विभाग ने हमले के बाद से पुल को दोनों तरफ से बंद कर दिया है। इसके साथ ही शहर के अंडरग्राउंड ट्रेन स्टेशनों को बंद कर दिया गया है और ब्रिज के आसपास के इलाकों को खाली करवा लिया गया है। वहीं लंदन के मेयर सादिक खान ने लोगों से अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की है। मेयर ने जनता से केवल आधिकारिक जानकारियों पर ही भरोसा करने का अनुरोध किया है।

घटनाक्रम

लंदन हमला

इस फुटेज में हमलावर चाकूबाजी की घटना से कुछ सेकंड पहले बरो मार्केट में ज़िंदा नजर आ रहा है।

लंदन हमला

हमलावरों की यह वही वैन है जिसने सात लोगों की जान ली

लंदन हमला

रविवार को लंदन ब्रिज पर हथियारबंद पुलिस कर्मी

लंदन हमला

घटनास्थल पर डरी हुई एक महिला को संभालती पुलिस अधिकारी

लंदन हमला

अपने आधिकारिक निवास 10, डाउनिंग स्ट्रीट पर घटना के बारे में बयान जारी करती हुई प्रधानमंत्री थेरेसा मे

हमले के पीड़ित अलग-अलग देशों के हैं। इस घटना के बाद ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने कहा, ‘हालात बदलने होंगे। हमें न तो ऐसा करना है और न ही ऐसा दिखावा करना है जिससे लगे कि सब कुछ ऐसा ही चलता रहेगा।’ थेरेसा मे ने लंदन हमले की निंदा करते हुए कहा है कि अब वक्त आ चुका है कि हम कहें कि बहुत हो गया। प्रधानमंत्री ने कहा है कि आतंकवाद निरोधी रणनीति की समीक्षा की जाएगी। बीते तीन महीनों में लंदन में यह तीसरा हमला था। इस हमले के बाद ज्यादातर राजनीतिक पार्टियों ने राष्ट्रीय चुनाव के लिए जारी प्रचार को रोक दिया है।

वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री को फोन करके आतंकवाद के खिलाफ हरसंभव मदद का वादा किया। ट्रम्प ने कहा- खून-खराबा बंद होना चाहिए, बंद होगा।

शनिवार की रात लंदन ब्रिज और बरो मार्केट के बीच तीन हमलावरों ने चाकूबाजी करने के बाद एक वैन से कई लोगों को कुचलने की कोशिश की थी। रात दस बजे के आस-पास ये घटनाएं हुईं। पुलिस ने तीनों हमलावरों को गोली मालकर ढेर कर दिया। इस दौरान पुलिस ने 50 गोलियां दागीं। पुलिस के मुताबिक, हमलावरों ने पैदल जा रहे लोगों को जान से मारने के इरादे से वैन उन पर चढ़ाई थी। ये रेनाल्ट वैन किराए पर ली गई थी।

भारतीय उच्चायोग ने जारी किया इमरजेंसी नंबर

वहीं लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग ने इस हमले के बाद भारतीय नागरिकों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर (02076323035) जारी किए हैं। भारतीय उच्चायुक्त ने बयान जारी कर कहा कि इस मुश्किल घड़ी में हम सभी प्रभावित लोगों, उनके परिवारों और दोस्तों को हरसंभव मदद देंगे। साथ ही, स्थानीय लोगों से अधिक जानकारी के लिए मेट्रोपॉलिटन पुलिस के आपातकालीन नंबर 999 पर संपर्क करने को कहा गया है। दूसरी ओर, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लंदन हमलों की कड़ी निंदा करते हुए इसे ‘स्तब्धकारी’ करार दिया है।

Comments

Most Popular

To Top