International

कुलभूषण जाधव को बचाने के लिए अब मां आगे आई, राजनयिक प्रयास भी जारी

कुलभूषण जाधव

नई दिल्ली। पाकिस्तानी सेना की कैद में फंसे पूर्व नेवी अफसर कुलभूषण जाधव की रिहाई के लिए कोशिश जारी हैं। जाधव की मां अवंति सुधीर जाधव ने पाकिस्तानी सैन्य अदालत के फैसले के खिलाफ अपील दायर की है। दूसरी ओर, इस्लामाबाद में भारत के उच्चायुक्त गौतम बंबावाले ने इस सिलसिले में पाकिस्तान की विदेश सचिव तहमीना जंजुआ से मुलाकात की। भारत ने कुलभूषण जाधव से मिलने के लिए 16वीं बार Consular Access का अनुरोध किया है।





सजा के खिलाफ अपील

जाधव की मां ने पाकिस्तान के आर्मी एक्ट की धारा- 133बी के तहत जाधव को फांसी के फैसले के खिलाफ अपील दायर की है। अपील में पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा और फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल (FGCM) को प्रतिवादी बनाया गया है। फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल ने ही जाधव को जासूसी और आतंकवाद के आरोप में फांसी की सजा सुनाई थी। 10 अप्रैल को जनरल बाजवा ने इस फैसले पर मुहर लगाई थी।

कुलभूषण-के-लिए-अपील

जाधव की मां ने पाकिस्तानी सैन्य अदालत के फैसले के खिलाफ अपील

पाकिस्तान रक्षा मंत्रालय की मंजूरी के बाद सुनवाई मुमकिन

पाकिस्तानी कानून के अनुसार, इस याचिका की सुनवाई पाकिस्तान के ‘कोर्ट ऑफ अपील’ में होगी। कोर्ट ऑफ अपील में पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष या फिर उनके चुने गए एक या दो नुमाइंदे शामिल होते हैं। ब्रिगेडियर या उससे ऊंचे रैंक का अफसर इस कोर्ट की अध्यक्षता करता है। लेकिन अपील पर सुनवाई पाकिस्तान के रक्षा मंत्रालय की मंजूरी के बाद ही मुमकिन होगी।

अगर ये अपील खारिज होती है तो…

हालांकि विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने संसद को भरोसा दिलाया था कि कुलभूषण जाधव की रिहाई के लिए भारत किसी भी हद तक जाएगा। लेकिन पाकिस्तान के रवैये को देखकर लगता है कि सरकार के पास विकल्प सीमित हैं। अगर ये अपील खारिज होती है तो सजा के खिलाफ सिविल कोर्ट में अपील की जा सकती है। लेकिन पाकिस्तान के वकीलों ने जाधव की पैरवी से इनकार किया है। जाधव के पास आखिरी विकल्प पाकिस्तान के राष्ट्रपति से अपील करने का है। राजनयिक स्तर पर भारत अगर कैदियों की अदला-बदली के लिए इस्लामाबाद को राजी करता है तो भी जाधव की रिहाई की संभावना बन सकती है।

Comments

Most Popular

To Top