International

कुलभूषण ने सेना प्रमुख के समक्ष दी दया याचिका

कुलभूषण जाधव

रावलपिंडी। भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान कुछ नरमी बरतता दिख रहा है। पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के मुताबिक कुलभूषण जाधव ने सेना प्रमुख कमर बाजवा के समक्ष दया याचिका दाखिल की है। जाधव ने सेना प्रमुख से दया के आधार पर अपना जीवन बिताने की अनुमति देने का अनुरोध किया है। कुलभूषण को जासूसी, तोड़-फोड़ और आतंकवाद के आरोपों के चलते पाकिस्तान ने मौत की सजा सुनाई गई है, जिसके खिलाफ भारत ने इंटरनेशनल कोर्ट आफ जस्टिस (ICJ) में अपना पक्ष रखा था। आईसीजे ने अग्रिम फैसला लेने तक जाधव की फांसी पर रोक लगा दी है।





दया याचिका में भी कबुलवाई गई जासूस होने की बात

पाकिस्तान का कहना है कि सेना प्रमुख को सौंपी गई इस दया याचिका में कुलभूषण जाधव ने पाकिस्तान में जासूसी, आतंकवादी और विद्रोही गतिविधियों में शामिल होने की बात स्वीकार की है। इससे पहले भी पाकिस्तान द्वारा जारी एक वीडियो में भी जाधव को आतंकवाद और जासूसी के कार्यों में शामिल होने की बात स्वीकार करते हुए दिखाया गया था जिसे ICJ ने देखने से भी इनकार कर दिया था।

पहले सैन्य न्यायालय ने कर दी थी दया याचिका ख़ारिज

जाधव ने पहले सैन्य अपीलीय न्यायालय से अपील की थी, जिसे खारिज कर दिया गया था। कानून के तहत वह चीफ आफ आर्मी स्टाफ (जो उन्होंने किया है) के लिए क्षमाशीलता के लिए अपील कर सकते हैं और याचिका अस्वीकार होने पर वह पाकिस्तान के राष्ट्रपति से भी दया की अपील कर सकते हैं।

जाधव की फांसी की सजा पर अचानक नरमी दिखा रहा है पाकिस्तान

भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने भरोसा दिलाया है कि अंतर्राष्ट्रीय अदालत के फैसला आने तक जाधव को फांसी नहीं दी जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने साफ किया है कि जाधव की फांसी की सजा पर पुनर्विचार का रास्ता भी खुला हुआ है।

एक अखबार को दिये साक्षात्कार में अब्दुल बासित ने कहा कि पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय अदालत के फैसला आने तक कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर अमल नहीं करेगा। चाहे अंतर्राष्ट्रीय अदालत का फैसला आने में दो-तीन साल तक का समय क्यों नहीं लग जाए। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि फांसी की सजा के खिलाफ सारे अदालती रास्ते बंद होने के बाद भी राष्ट्रपति से माफी मांगने का रास्ता खुला रहेगा। यानी अंतिम समय में पाकिस्तानी राष्ट्रपति जाधव को माफ भी कर सकते हैं।

Comments

Most Popular

To Top