International

ICJ में पाकिस्तान तदर्थ जज के लिए आज देगा नाम

कुलभूषण जाधव मामला

इस्लामाबाद। इंटरनेशनल कोर्ट आफ जस्टिस (ICJ) में आज भारतीय नागरिक और पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव के मामले की सुनवाई होनी है। पाकिस्तान आज ICJ में तदर्थ जज की नियुक्ति के लिए तीन नाम पेश करेगा। ये नाम हैं पाकिस्तान के पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क, तसादक हुसैन जिलानी और पूर्व अटार्नी जनरल मकदूम अली।





12 सदस्यीय ट्रिब्यूनल में भारतीय जज दलवीर भंडारी सदस्य हैं। ICJ पाकिस्तान की सैन्य अदालत से कुलभूषण की फांसी की सजा के खिलाफ भारत की याचिका पर सुनवाई कर रहा है।

18 मई को कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में करारी हार का सामना करना पड़ा था। ICJ ने भारत के पक्ष में फैसला सुनाया था। अदालत ने कहा था, ‘जब तक उनके मामले में अंतिम फैसला नहीं आ जाता उन्हें फांसी नहीं दी जा सकती। यह भी स्पष्ट कर दिया था कि बिना उसकी अनुमति के पाकिस्तान कोई कार्रवाई न करे।’ ICJ के चीफ जस्टिस रोनी अब्राहम ने फैसला सार्वजनिक रूप से पढ़कर सुनाया था।

ICJ ने कहा था कि जाधव की जान को खतरा है इसलिए पाकिस्तान उसकी सलामती सुनिश्चित करे। जाधव को गिरफ्तार करने वाली परिस्थितियां विवादित हैं। भारत को कुलभूषण मामले में कोंसुलर एक्सेस मिलना चाहिए था। वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने सिर्फ एक रुपये में भारत सरकार की ओर से कुलभूषण का मुकदमा लड़ा है।

कोर्ट ने विएना संधि का दिया हवाला

इंटरनेशन कोर्ट ऑफ जस्टिस ने विएना संधि का भी हवाला दिया था। कोर्ट ने कहा था कि पाकिस्तान को विएना संधि के तहत कुलभूषण जाधव के लिए काउंसलर एक्सेस मुहैया कराना था। कुलभूषण को सभी राजनयिक सुविधाएं मुहैया करानी चाहिए थी। ऐसा न करके पाकिस्तान ने बहुत बड़ी गलती है। कोर्ट ने भारत द्वारा दी गई लगभग सभी दलीलों पर सहमति जताई।

पाकिस्तान को जमकर लताड़ा

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव पर उसके खिलाफ फैसला देने के साथ-साथ उसकी उस दलील पर भी जमकर लताड़ लगाई जिसमें वह बार-बार मामले को कोर्ट के अधिकार क्षेत्र के बाहर बता रहा था। फैसला पढ़ रहे जज ने कहा कि इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस को भारत पाकिस्तान के इस मामले में सुनवाई करने का पूरा अधिकार है। कोर्ट ने स्पष्ट कहा था कि जब तक कुलभूषण जाधव पर अंतिम फैसला इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस नहीं करता तब तक उन्हें फांसी नहीं दी जा सकती।

Comments

Most Popular

To Top