International

कुलभूषण केस: जल्दी फांसी के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचा पाकिस्तानी वकील

कुलभूषण जाधव

इस्लामाबाद। कुलभूषण जाधव मामले में जहां पाकिस्तान ने हाल ही में इंटरनेशनल कोर्ट आॅफ जस्टिस में इस मामले को लेकर जल्द से जल्द फैसला सुनाने की गुहार लगाई थी। वहीं, पाकिस्तान के एक वकील मुज़म्मिल अली ने पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट में कुलभूषण को जल्दी फांसी देने को लेकर एक याचिका दायर की है।





ICJ का फैसला मानने को मजबूर नहीं पाकिस्तान

इस याचिका के अनुसार पाकिस्तान, कुलभूषण जाधव मामले में आईसीजे यानि इंटरनेशनल कोर्ट आॅफ जस्टिस का फैसला मानने के लिए मजबूर नहीं है। आईसीजे का फैसला पाकिस्तान के घरेलू कानून के अंर्तगत जाधव मामले को प्रभावित नहीं करता। ये याचिका पाकिस्तानी वकील मुज़म्मिल अली ने संविधान के अनुच्छेद 184 (3) के तहत दायर की है। याचिकाकर्ता ने अपील की है कि भारत की मांगों के अनुसार कुलभूषण जाधव को वकील की सेवा भी उपलब्ध कराई गई तथा सभी कानूनी प्रक्रियाएं भी पूरी की गई।

ICJ ने फांसी पर लगाई है रोक

पाकिस्तानी-वकील -ख्वार-कुरैशी

पाक सुप्रीम कोर्ट के बाहर पाकिस्तानी वकील ख्वार कुरैशी

हाल ही में इंटरनेशनल कोर्ट आॅफ जस्टिस ने जाधव प्रकरण में अंतिम फैसले तक कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा दी थी। इस मामले में 19 मई को दोपहर तीन बजे इंटरनेशनल कोर्ट आॅफ जस्टिस के चीफ जस्टिस रोनी अब्राहम ने फैसला सुनाया गया था। गौरतलब है कि ICJ में ख्वार कुरैशी ने कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व किया था, लेकिन इस बार पाकिस्तान अपने अटॉर्नी जनरल अश्तर आसिफ अंसारी को इस मामले में पाकिस्तान का पक्ष रखने के लिए भेजेगा।

ये था मामला !

पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जाधव को जासूसी और देश विरोधी गतिविधियों के आरोप में फांसी की सजा सुनाई है। भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया, जबकि पाकिस्तान ने बलूचिस्तान से जाधव की गिरफ्तारी दिखाई है। भारतीय नौ सेना के पूर्व अधिकारी जाधव को गत साल मार्च महीने में गिरफ्तार किया गया था और उसके खिलाफ मुकदमे की सुनवाई साढ़े तीन महीने तक चली। जाधव ने भारत के लिए जासूसी करने समेत पाकिस्तान की अखंडता के खिलाफ काम करने, आतंकवाद को बढ़ावा देने और देश को अस्थिर करने के आरोपों का सामना किया।

Comments

Most Popular

To Top