International

कुलभूषण जाधव मामले में उच्चायुक्त अब्दुल बासित तलब

नई दिल्ली: पाकिस्तान द्वारा भारतीय कुलभूषण जाधव को जासूसी के आरोप में फांसी की सजा सुनाए जाने पर विदेश मंत्रालय ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। भारत के विदेश सचिव ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित को तलब कर अपना विरोध दर्ज कराया है। भारत ने अब्दुल बासित को विरोध पत्र जारी कर कहा गया है कि जाधव की सजा वाली कार्यवाही हास्यास्पद है।





विदेश मंत्रालय के विरोध पत्र में कहा गया है, ”अगर कानून और न्याय के मूल सिद्धांतों का पालन नहीं होता तो भारत के लोग और सरकार इसे सोची-समझी हत्या समझेंगे। यह बेहद महत्वपूर्ण है कि हमारे उच्चायोग को जानकारी तक नहीं दी गई कि कुलभूषण जाधव का ट्रायल चल रहा है। जाधव को ईरान से अपहृत किया गया था, पाकिस्तान द्वारा किसी तरह की राजनैतिक पहुंच नहीं दी गई। अगर उसे फांसी होती है तो यह एक सोची-समझी हत्या होगी।”

पाकिस्तानी कैदियों की भारत ने रोकी रिहाई

इस बीच, भारत सरकार ने पाकिस्तान के बुधवार को रिहा किए जाने वाले 11 कैदियों की रिहाई टाल दी है। भारत के एक समाचार चैनल से बातचीत मे पाकिस्तान के एक वरिष्ठ पत्रकार ने यह भी बताया कि जाधव को जल्दी ही फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा।

ये है पाकिस्तान में मौत की सजा पाए कुलभूषण की कहानी

आपको बता दें कि जाधव को 3 मार्च, 2016 को बलूचिस्तान के चमन क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया था। जाधव पर जासूसी और कराची तथा बलूचिस्तासन में अशांति फैलाने का आरोप है।

कुलभूषण को फांसी की सजा

पाकिस्तान के इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने कहा है कि ‘जासूस का पाकिस्तानी आर्मी एक्ट के तहत फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल के जरिए ट्रायल किया गया और मौत की सजा सुनाई गई। सेनाध्य‍क्ष जनरल कमर जावेद बाजवा ने मौत की सजा की पुष्टि की है।’ पाकिस्तान हमेशा ये कहता आया है कि कुलभूषण जाधव हिन्दुस्तान की खुफिया एजेंसी RAW का एजेंट है।

आरोपों से इनकार करता रहा है भारत

भारत पाकिस्तान के आरोपों से इनकार करता आ रहा है और कुलभूषण जाधव को इंडियन नेवी का रिटायर्ड ऑफिसर मानता है। जब पाकिस्तानी मीडिया में कुलभूषण जाधव के गिरफ़्तारी की ख़बरें आईं थी उसी समय भारत सरकार ने अपने आधिकारिक बयान में कहा था कि जाधव कभी इंडियन नेवी का सदस्य रहा है, और रिटायरमेंट के बाद से उसका भारत सरकार या इंडियन नेवी से कोई संपर्क नहीं रहा है।

Comments

Most Popular

To Top