International

तवांग रेल लाइन मामले में संयम बरते भारत : चीन

तवांग

बीजिंग। तिब्बती आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा की प्रस्तावित तवांग यात्रा पर आपत्ति जताने के बाद चीन ने एक बार फिर भारत को घेरने का प्रयास किया है। चीन ने तवांग को रेल लाइन से जोड़ने की भारत की योजना पर संयम बरतने को कहा है। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट से बुधवार को मिली।





चीन का कहना है कि भारत की एकतरफा कार्रवाई सीमा के अनसुलझे मुद्दे को और पेचीदा बन सकती है। चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा, “चीन और भारत के बीच विश्वास बहाली और सीमा मुद्दे के उपयुक्त हल को प्रोत्साहन देने के लिए भारत सावधानी बरतेगा, संयम दिखाएगा और एकपक्षीय कार्रवाइयों से बचेगा, जो मुद्दे को और जटिल कर सकते हैं।”

मंत्रालय ने कहा कि चीन-भारत सीमा के पूर्वी हिस्से पर बीजिंग का रुख एक जैसा और स्पष्ट है। फिलहाल, दोनों देश वार्ता और परामर्श के जरिए क्षेत्र के विवाद का हल करने की दिशा में काम कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि हाल के दिनों में चीन ने अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा दोहराया था जिसे वह दक्षिण तिब्बत कहता है। तवांग भारत के लिए अत्याधिक सामरिक महत्व रखता है। भारत अपने रणनीतिक हितों को आगे बढ़ाते हुए तवांग को रेल नेटवर्क से जोड़ने की व्यावहारिकता का पता लगा रहा है।

सरकार ने रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा और गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू से इस दूरदराज के इलाके में रेल नेटवर्क की व्यावहारिकता का पता लगाने को कहा है। रिजिजू अरुणाचल पश्चिम सीट से सांसद हैं। दोनों मंत्री तवांग को भालुकपोंग से जोड़ने की व्यावहारिकता का अध्ययन के लिए राज्य का दौरा करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top