International

अभ्यास के बहाने चीन इकट्ठा कर रहा है हजारों टन गोला बारूद

चीन सेना

बीजिंग। भारत के साथ डोकलाम को लेकर बढ़ते तनाव के बीच चीन युद्ध के लिए तैयार होता नजर आ रहा है हाल ही में चीन ने तिब्बत में दो सैन्य अभ्यासों के बहाने हजारों टन सैन्य साजोसामान इन पठारों की तरफ भेजा है। खबरों के मुताबिक चीन ने सैन्य तैनाती में इजाफा सिक्किम सीमा के पास नहीं, बल्कि, पश्चिम में शिनजियांग प्रांत के निकट उत्तरी तिब्बत में किया है।





चीन उत्तरी तिब्बत में कर रहा है सैन्य अभ्यास

चीनी सेना के मुखपत्र पीएलए डेली का हवाला देते हुए साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने लिखा है, ‘अशांत तिब्बत और शिनजियांग प्रांत में पश्चिमी थिएटर कमांड ने उत्तरी तिब्बत में कुनलुन पर्वतों के दक्षिण में सैन्य साजोसामान भेजे हैं, लेकिन इस रिपोर्ट में ये खुलास नहीं किया गया कि सैन्य सामन की तैनाती दो सैन्य अभ्यासों के लिए है या वह युद्ध की पूर्व तैयारी कर रहा है। वहीं, एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया कहा कि यह सैन्य मूवमेंट ‘सीमा तनाव से जुड़ा हुआ है। आपको बता दें कि इससे पहले सीमा पर विवाद बढ़ने के बाद चीन दो सैन्य अभ्यास कर चुका है। रिपोर्ट की मानें, तो चीन यह सब भारत पर डोकलाम सीमा विवाद को लेकर दबाव बनाने के लिए कर रहा है।

बड़े रोड नेटवर्क के जरिए आसानी से भेज सकता है हथियार

चीन सैन्य अभ्यास सिक्किम बॉर्डर के बजाय उत्तरी तिब्बत में कर रहा है, लेकिन वह अपने सभी हथियार बड़ी की आसानी से सीमा पर भेज सकता है। इसके लिए चीन ने काफी बड़ा रेल और रोड नेटवर्क बिछा रखा है। ल्हासा से लेकर याडोंग तक फैले इस एक्सप्रेस वे के कारण, चीनी सेना 700 किमी का सफर महज 6 से 7 घंटे में तय कर सकती है। साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक यह प्रोजेक्टस अगले महीने के अंत तक शुरू होगा। इस प्रोजेक्ट के तहत चीन रोड और रेल के माध्यम से हार्डवेयर लगातार पहुंचाएगा।

पीछे नहीं हटना चाहते हैं दोनों ही देश

गौरतलब है कि चीन और भारत के बीच तनातनी बीते एक महीने से ज्यादा समय से चल रही है। डोकलाम को लेकर शुरू हुए विवाद के बाद दोनों ही देश अपने अपने रुख पर अड़े हुए हैं। जहां भारत इस समस्या का राजनयिक समाधान निकालने की बात कर रहा है वहीं, चीन लगातार भारत से अपनी सेना वापस बुलाने की बात कर रहा है। वहीं, मंगलवार को सरकार ने इस मुद्दे पर अपना पक्ष रखा। विदेश सचिव एस जयशंकर ने मीडिया से बातचीन में कहा कि दोनों देश इस मुद्दे का राजनयिक हल निकलने का प्रयास कर रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top