International

OBOR सम्मेलन में भारत के शामिल न होने से चीन विचलित

चीन

बीजिंग। वन बेल्ट, वन रोड (ओबीओआर- OBOR) पर हुए अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भारत के शामिल नहीं होने से चीन बौखला गया है तो चीन के सरकारी अखबार ने इसे घरेलू राजनीतिक ‘ड्रामा’ करार दिया है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने मंगलवर को इसे राजनीतिक तमाशा बताया तो चीनी विदेश मंत्रालय ने पूछा कि इसका हिस्सा बनने के लिए भारत किस तरह की बातचीत चाहता है।





उल्लेखनीय है कि जल, थल मार्ग से एशिया, यूरोप और अफ्रीका के 65 देशों को जोड़ने वाली चीन की इस महत्वाकांक्षी परियोजना पर सम्मेलन सोमवार को समाप्त हो गया। इस सम्मेलन में सौ से ज्यादा देशों ने भाग लिया। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ सहित 29 देशों की सरकार के मुखिया मौजूद थे। माना जा रहा है कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से गुजरने वाले चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के कारण भारत इसमें शरीक नहीं हुआ।
चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि बीजिंग शुरुआत से ही चाहता है कि भारत इस परियोजना का हिस्सा बने। शुरुआत से ही परियोजना व्यापक परामर्श, संयुक्त साझेदारी और साझा लाभ के सिद्धांत पर आधारित है। ऐसे में यह समझ से परे है कि अर्थपूर्ण बातचीत से भारत का तात्पर्य क्या है। वे किसी भी तरीके से इसके बारे में बता सकते हैं।

चीनी प्रवक्ता ने आगे कहा कि इस परियोजना का मकसद किसी देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता में दखल देना नहीं है। कश्मीर विवाद भारत-पाक का द्विपक्षीय मसला है और बीजिंग का मानना है कि दोनों देशों को बातचीत से इसका हल निकालना चाहिए।

उधर,सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में सुझाव दिया है कि मित्रवत संबंध भारत और चीन दोनों के हित में है। भारत चाहता है कि चीन उसके हितों पर विशेष ध्यान दे पर इसके लिए सही तरीके से संवाद कायम नहीं किया जा रहा। अखबार के अनुसार, ओबीओआर पर भारत की आपत्ति का कारण घरेलू राजनीति है। इसका मकसद चीन पर दबाव बनाना है। लेकिन, भारत की गैर मौजूदगी का इस पर कोई असर नहीं पड़ेगा। इस पहल से दुनिया की जो तरक्की होगी उस पर भी इसका असर नहीं पड़ेगा।

ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि यदि भारत खुद को एक बड़ी ताकत के रूप में देखता है तो उसे चीन के साथ असहमतियों का अभ्यस्त होना चाहिए और इन असहमतियों से निपटने की कोशिश करनी चाहिए। यह लगभग असंभव है कि दो बड़े देश सभी चीजों को लेकर समझौते पर पहुंच जाएं।

Comments

Most Popular

To Top