International

भारत की सख्ती पर चीन घबराया, कहा- सीमा पर बहुत आक्रामक है भारतीय सेना

डोकलाम

नई दिल्ली। बॉर्डर पर चीन के रवैये को देखते हुए भारत ने कड़ा रुख अपनाया है। यही कारण है कि चीनी आर्मी पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी (PLA) ने भारतीय सेना पर आक्रामक रूख अपनाने का आरोप लगाया है। वास्तविक नियंत्रण रेखा (LaC) पर शांति बनाए रखने के लिए भारत और चीन के बीच विशेष प्रतिनिधि लेवल की बातचीत हो चुकी है। इसमें दोनों देश सीमा पर शांति बनाए रखने पर सहमत हुए हैं। डोकलाम में पिछले साल दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनातनी हो गई थी। दो महीनों से भी अधिक वक्त तक टकराव के हालात बने रहे थे। सीमा पर दोनों देशों के सूझबूझ से ही स्थिति नियंत्रित हो पाई थी।





दिसंबर में दोनों देशों के बीच विशेष प्रतिनिधि लेवल के 22वें दौर की बैठक हुई थी। डोकलाम विवाद के शांत होने के बाद भारत और चीन के प्रतिनिधि पहली बार आमने-सामने थे। अब पीएलए ने एक बयान जारी कर भारतीय सुरक्षाबलों पर आक्रामक रवैया अपनाने का आरोप लगाया है।

चीनी सेना ने भारत से अपनी सेना को नियंत्रित करने की मांग की है। एक अखबार में छपी खबर के अनुसार, पीएलए ने सार्वजनिक बयान जारी करने से पहले डिप्लोमेटिक प्रणालियों द्वारा आपत्ति दर्ज कराई थी। चीनी आर्मी ने कहा कि बॉर्डर पर ड्यूटी के दौरान भारतीय सुरक्षाबलों के साथ हुई हाथापाई में उनके जवान घायल हो गए थे। उनका कहना है कि भारतीय जवान इस तरह आक्रामक हो रहे थे मानो जैसे यह पाकिस्तान की सीमा हो। फिलहाल, दोनों देशों के बीच तनाव के बावजूद पिछले 40 वर्षों में एक बार भी गोलीबारी की घटना नहीं हुई है।

सेना और ITBP ने पीएलए के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। जबकि इसके विपरीत भारतीय सुरक्षाकर्मियों ने ही पीएलए पर आक्रामक होने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ‘पैनगोंग सो’ इलाके में हुई घटना में चीनी जवान लोहे की रॉड और डंडे के साथ आए थे। अधिकारियों के मुताबिक भारतीय सुरक्षाबल वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गश्ती को लेकर बेहद संवेदनशील और सीमाई क्षेत्र में पीस बनाए रखने को लेकर प्रतिबद्ध हैं।

Comments

Most Popular

To Top