International

बड़ा फैसलाः चीन सीमा पर शहीद जवानों के परिजनों को भी मिलेगी Liberalized Family Pension 

डोकलाम

नई दिल्ली। सरकार ने फैसला किया है कि चीन सीमा पर शहीद होने वाले जवानों के परिजनों को भी अब उतनी ही पेंशन मिलेगी जितनी पाकिस्तान सीमा पर तैनात जवानों के परिजनों को मिलती है। सरकार के इस फैसले से पाकिस्तान के मोर्चे पर शहीद होने वाले सैनिकों के परिजनों को ज्यादा लाभ की शिकायत इस फैसले के बाद खत्म हो जायेगी।





रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भारत-चीन सीमा के लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर तैनात सैनिकों के लिए भी Liberalized Family Pension (LFP) के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इसके तहत सैनिक की मृत्यु होने पर उसके परिजनों को अब उसके अंतिम वेतन के बराबर पेंशन मिलेगी। Liberalized Family Pension किसी हमले का जवाब देते वक्त, दुश्मन के खिलाफ एक्शन लेते वक्त, नदी में डूबने-बहने, आग लगने और प्राकृतिक आपदाओं में मृत्यु होने पर दी जाती है। इस पेंशन के तहत सैनिक के अंतिम वेतन का 100 फीसदी हिस्सा दिया जाता है। सामान्य परिस्थितियों में अंतिम वेतन का सिर्फ 30 फीसदी हिस्सा ही पारिवारिक पेंशन के रूप में मिलता है।

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक अब चीन सीमा पर तैनात जवानों के परिजनों को भी पाकिस्तान के मोर्चे पर शहीद होने वाले सैनिकों के समान पेंशन मिलेगी क्योंकि वे भी पाकिस्तान सीमा की तरह कठिन हालातों में कार्य करते हैं।

 

Comments

Most Popular

To Top