International

फ्रांस और ब्रिटेन ने किया आतंक विरोधी कार्ययोजना का ऐलान

टरीजा-मे-और-इमैन्युअल-मैक्रों

पेरिस। फ्रांस और ब्रिटेन के राष्ट्र प्रमुखों ने आज सोशल मीडिया के माध्यम से चरमपंथ फैलाने के मामले पर अंकुश लगाने के लिए एक आतंक विरोधी कार्ययोजना की घोषणा की। पेरिस में ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे से बातचीत के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों ने कहा कि दोनों देशों के बीच इस बात को लेकर सहमति बनी कि सोशल नेटवर्क की मदद से आतंकी प्रॉपेगैंडा पर काबू पाने में मदद नहीं मिल रही है।





मैक्रों ने बताया कि मैनचेस्टर और लंदन में आतंकी हमलों के बाद दोनों देशों ने आतंक को रोकने के लिए ‘बहुत ही ठोस’ एक्शन प्लान पर काम किया है। उन्होंने कहा कि जिन चीजों पर ज्यादा जोर दिया जाएगा, उनमें से एक इंटरनेट पर ‘नफरत और आतंकवाद’ को भड़काने की रोकथाम अहम है।

सोशल-मीडिया

सोशल नेटवर्क के जरिए भी आतंकी अपने मकसद में कामयाब हो रहे हैं

टेरीजा मे ने कहा कि वह और मैक्रों इस बात को लेकर सहमत हुए कि ऑनलाइन आतंकी खतरे से निपटने के लिए बहुत कुछ करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन और फ्रांस की मुहिम का मकसद रहेगा कि इंटरनेट को चरमपंथी सामग्री को बढ़ावा देने के लिए इस्तेमाल नहीं होने दिया जाए। मे ने कहा कि ब्रिटिश सरकार पहले से ही चरमपंथी सामग्री और जहरीला प्रॉपेगैंडा को रोकने के लिए सोशल मीडिया कंपनियों के साथ काम कर रही है।

उन्होंने कहा, ‘लेकिन हम जानते हैं कि बहुत कुछ करना है। आज हम घोषणा कर सकते हैं कि यूके और फ्रांस के संगठनों को अपने नेटवर्क्स से नुकसान पहुंचाने वाली सामग्री हटाने के लिए उनको अपनी सामाजिक जिम्मेदारी निभाने और इस दिशा में कुछ ज्यादा काम करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।’

अगर टेक कंपनियां अस्वीकार्य सामग्री को हटाने के लिए आवश्यक कार्रवाई नहीं करती हैं तो उनके खिलाफ कानूनी जुर्माना लगाने की संभावना पर भी गौर किया जाएगा।

Comments

Most Popular

To Top