International

विश्वयुद्ध- II के हैरतंगेज किस्से: कमजोर दिल वाले ना पढ़ें

दूसरा-विश्वयुद्ध

दूसरे विश्व युद्ध से जुड़े कई किस्से आपने सुने होंगे लेकिन आज हम दूसरे विश्वयुद्ध से जुड़ी कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जिनके बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे। इन कहानियों में कुछ किस्से हौसलों से जुड़े है तो कुछ किस्मत से।





विश्वयुद्ध खत्म हो गया, पर नहीं किया 29 साल तक आत्मसमर्पण

हिरू ओनाडा

जापानी सैनिक हिरू ओनाडा (फाइल फोटो)

हिरू ओनाडा नाम के एक जापानी सैनिक ने दूसरा विश्वयुद्ध ख़त्म होने के 29 साल बाद तक भी आत्मसमर्पण नहीं किया था। युद्ध खत्म होने के बाद भी 1974 तक हिरू ओनाडा मुक्त रहा।

एटम बम के हमले के बाद भी बच गया जिंदा

सुतोमु यामागुची

जापानी नागरिक सुतोमु यामागुची (Tsutomu Yamaguchi)

अगर आपने हॉलीवुड फिल्म ‘वोल्वोरिन’ देखी है, तो शायद आपको वो सीन याद होगा जिसमें हिरोशिमा और नागासाकी का बम विस्फोट फिल्माया गया है। इसमें विस्फोट के बाद भी दो कैरेक्टर जिन्दा बच जाते है। शायद उसे देखने के बाद लगा होगा कि ये महज़ फिल्मों में ही मुमकिन है। मगर ये जानकर आपको हैरानी होगी कि ऐसा असलियत में भी हो चुका है। सुतोमु यामागुची (Tsutomu Yamaguchi) नाम का एक जापानी नागरिक था जो हिरोशिमा और नागासाकी परमाणु विस्फोट के बाद भी जिंदा बच गया था।

जाको राखे साइयां मार सके न कोय

फ्लाइट सार्जेंट निकोलस अल्केमेड

फ्लाइट सार्जेंट निकोलस अल्केमेड बिना पैराशूट के कूदने के बाद भी बचे जिंदा (प्रतीकात्मक)

‘जाको राखे साइयां मार सके ना कोय’ इस कहावत के जीते-जागते उदाहरण बने सार्जेंट निकोलस अल्केमेड। रॉयल एयर फोर्स एव्रो लंकास्टर में बतौर रियर गनर तैनात फ्लाइट सार्जेंट निकोलस अल्केमेड जिस विमान में थे वह बेकाबू हो गया। 18,000 फूट (5,500 मीटर) की ऊंचाई से बिना पैराशूट के कूदने के बाद भी वह जिंदा बच गए थे और उन्हें सिर्फ  मामूली चोट ही आई थी।

दिल के दौरे के बाद इंजेक्शन के सहारे कराया आत्मसमर्पण

चेकोस्लोवाकिया

हिटलर और गोरिंग ने दी थी धमकी

वर्ष 1939 में चेकोस्लोवाकिया के तत्कालीन राष्ट्रपति एमिल हाचा को जब हिटलर और गोरिंग ने धमकी दी कि अगर वो उनकी बात नहीं मानेंगे तो उनके देश पर बम बरसाने शुरू कर दिए जाएंगे। धमकी की वजह से उन्हें दिल का दौरा पड़ गया। आत्मसमर्पण के दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने तक उन्हें इंजेक्शन के सहारे जिंदा रखा गया और आत्मसमर्पण के दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करवाए गए।

स्पैनिश डबल एजेंट को दोनों तरफ से मिला पुरस्कार

जोआन पुजोल गार्सिया

स्पैनिश ‘डबल एजेंट’ जोआन पुजोल गार्सिया

जोआन पुजोल गार्सिया नाम के एक स्पैनिश ‘डबल एजेंट’ को दूसरे विश्व युद्ध के दौरान दोनों तरफ से मेडल से नवाज़ा गया। जर्मन की ओर से उन्हें Eisernes Kreuz II Klasse और ब्रिटेन की तरफ से उन्हें Member of the Order of the British Empire से नवाज़ा गया।

एक ‘कॉरपोरल’ भालू जो मोर्चे पर करता था मदद

भालू

भालू का इस्तेमाल आग्रिम मोर्चों पर हथियार ले जाने के लिए भी किया जाता था

पोलैंड के एक भालू जिसका नाम वोजटेक (Wojtek) था, उसे कॉरपोरल के रैंक से नवाज़ा गया था। इसके साथ ही उसे सैलूट करना, शराब पीना, धुम्रपान करना और कुश्ती लड़ना भी सिखाया गया था। इस भालू का इस्तेमाल आग्रिम मोर्चों पर हथियार ले जाने के लिए भी किया जाता था।

अमेरिका से पहले कनाडा ने दिया जापान को जवाब

पर्ल-हार्बर

पर्ल हार्बर (फाइल पोटो)

7  दिसम्बर, 1941 जापान ने अमेरिका के पर्ल हार्बर पर हमला किया। अमेरिका जापान को जवाब दे पाता इससे पहले ही कनाडा ने जापान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

Comments

Most Popular

To Top