International

अमेरिका ने अफगानिस्तान में दागा ‘मदर ऑफ़ ऑल बॉम्ब्स’, दुनिया भौंचक

अफगानिस्तान

अचिन (नंगरहार)। अमेरिका ने अफगानिस्तान में नंगरहार प्रांत के अचिन जिले में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के ठिकाने पर गुरुवार की शाम सबसे बड़े गैर परमाणु बम गिराकर दुनिया को चकित कर दिया है। इस बम का वज़न 9797 किलोग्राम था और इसकी लंबाई 30 फीट से ज़्यादा थी। इस बम का नाम ‘मदर ऑफ़ ऑल बॉम्ब्स’ (Mother of all bombs-MOAB) है। इस हमले में कम से कम 90 जिहादी मारे गए हैं, जबकि आम नागरिकों को नुकसान नहीं पहुंचा है। अचिन के एक क्षेत्रीय गवर्नर इस्माइल शिनवारी ने जिहादियों की मौत की पुष्टि की है।





जानिए क्या है अमेरिका का ‘मदर ऑफ़ ऑल बॉम्ब्स’

बीबीसी के अनुसार, अफगानिस्तान के कार्यकारी प्रमुख अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने कहा है कि इस्लामिक स्टेट को निशाना बनाने के लिए अमेरिका द्वारा गिराए गए सबसे बड़े बम से नागरिकों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। उन्होंने कहा कि पूर्वी अफगानिस्तान में स्थित गुफ़ा में बनी इमारतों पर यह हमला अफगानिस्तान सरकार के साथ तालमेल से किया गया। इस कार्रवाई में कई देशों की सेनाओं की भूमिका रही।

‘मदर ऑफ़ ऑल बॉम्ब्स’

जीबीयू-43 नाम के इस बम को ‘मदर ऑफ़ ऑल बॉम्ब्स’ कहा जाता है

हमले में 90 चरमपंथी मारे गए

अफगानिस्तान के रक्षा अधिकारियों ने कहा कि इस हमले में 90 चरमपंथी मारे गए। एक स्थानीय लड़ाका समूह के सदस्य ने कहा कि उसने एक जोरदार धमाका सुना और उसके बाद आग की गगनचुंबी लपटें देखी गईं। हालांकि इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने इस खबर का खंडन किया है कि उसका कोई आदमी मारा गया है। अफगानिस्तान में अमेरिकी रक्षा बलों के मुखिया जनरल ज़ॉन निकलसन ने कहा कि इस बम का इस्तेमाल, जिहादियों के ख़िलाफ़ चलाए जा रहे अभियान में बढ़त बनाने के लिए किया गया।

अफगानिस्तान

अफगानिस्तान में इसी गुफा में गिराया गया 9797 किग्रा वजन का बम

जीबीयू-43 नाम के इस बम को ‘मदर ऑफ़ ऑल बॉम्ब्स’ के नाम से जाना जाता है

अमेरिकी सेना का कहना है कि उसने पहली बार अपना अब तक का सबसे बड़े गैर परमाणु बम का इस्तेमाल किया है। जीबीयू-43 नाम के इस बम को ‘मदर ऑफ़ ऑल बॉम्ब्स’ के नाम से जाना जाता है। इसे सबसे पहले 2003 में टेस्ट किया गया था, लेकिन इसका इस्तेमाल पहले कभी नहीं हुआ था। अफगानिस्तान में अमेरिकी फोर्स के कमांडर जनरल जॉन निकलसन ने बम हमले को लेकर कहा, ‘सही हथियार सही निशाने और सही समय पर किया गया है।’

अफगानिस्तान

अफगानिस्तान में नंगरहार प्रांत जहां अमेरिका ने सबसे बड़ा बम गिराया

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने कहा है कि उनके एक विमान ने अफ़ग़ानिस्तान के नंगरहार प्रांत में इस बम को गिराया है जिसका निशाना तथाकथित इस्लामिक स्टेट चरमपंथियों के छिपने के ठिकाने थे। यह हमला पिछले हफ्ते अफगानिस्तान में आईएस से लड़ाई के दौरान अमेरिकी सैनिक की मौत के बाद हुआ है।

बम अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट गुट की सुरंगनुमा इमारत पर गिराया गया

पेंटागन ने कहा कि बम अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट गुट की सुरंगनुमा इमारत पर गिराया गया। अमेरिका ने हमले के नतीजों की पुष्टि नहीं की है, लेकिन एक स्थानीय अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि हमले में कई आईएस चरमपंथी मारे गए हैं, जिनमें कथित तौर पर आईएस के एक बड़े लीडर का भाई भी शामिल है।

अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के कमांडर जनरल जॉन निकलसन ने कहा, “जिहादियों के गुटों की हार में बढ़ोतरी हुई थी इसलिए बचाव के लिए वह आईईडी, बंकरों और सुंरगों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इन बाधाओं को कम करने और हमारी हमलों की गति बनाए रखने के लिए ये सही हथियार था।”

Comments

Most Popular

To Top