International

नमाज पढ़ रहे सैनिकों पर आतंकी हमला, 140 की मौत

आतंकी-हमला

काबुल। अफगानिस्तान के उत्तरी शहर बल्ख की राजधानी मजार-ए-शरीफ के एक सेना बेस पर शुक्रवार शाम को नमाज के दौरान तालिबान हमले में 140 से ज्यादा अफगान सैनिक मारे गए और 150 से ज्यादा लोग घायल हो गए। हमलावर अफगान सेना की वर्दी में थे। इनकी संख्या 10 बताई जा रही है। जवाबी कार्रवाई में सात हमलावरों को मौके पर ढेर कर दिया गया। एक को जिंदा पकड़ लिया गया। तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी ली है। उसका दावा है कि घटना में 500 सैनिक मारे गए।





बता दें कि जिस सेना बेस पर हमला किया गया उसका इस्तेमाल विदेशी सेना के सलाहकार करते हैं। सेना के प्रवक्ता नसरतुल्लाह जमशीदी ने बताया कि हमलावरों ने बेस के गेट पर तैनात गार्ड से कहा कि वे घायल सैनिकों को ले जा रहे हैं और उन्हें तुरंत अंदर जाने की आवश्यकता है। हमलावर मिलिट्री की तीन गाड़ियों में थे।

तालिबान लड़ाकों ने बेस में घुसते ही एक रॉकेट दाग दिया। इसके बाद 10 हमलावरों ने सबसे पहले मस्जिद पर निशाना साधा जहां सेना के जवान शुक्रवार की नमाज अदा कर रहे थे। वहां अंधाधुंध गोलियां चलाने के बाद हमलावर वहां पहुंचे जहां अफगान आर्मी की 209वीं पलटन खाना खा रही थी। जांच में हमलावरों की गाड़ियों के कागजात फर्जी पाए गए हैं।

इससे पहले मार्च में भी हुआ था हमला

तालिबान ने एक बयान जारी करते हुए आर्मी कैम्प पर हुए हमले की जिम्मेदारी ली है। इससे पहले अफगानिस्तान में आर्मी को इसी साल मार्च में निशाना बनाया गया था।

अफगानिस्तान में अमेरिका के अभी करीब 8,400 सैनिक तैनात हैं। जबकि नाटो के भी करीब 5,000 सैनिक वहां मौजूद हैं। यह देश लंबे वक्त तक तालिबान और अन्य इस्लामिक आतंकियों के कब्जे में रहा है।

Comments

Most Popular

To Top