International

चीन खामोशी से भारत के उदय का इंतजार करे: ग्लोबल टाइम्स

पीएम मोदी के साथ जिनपिंग

नई दिल्ली। भारतीय मीडिया पर युद्ध संबंधी होने का आरोप लगता रहा है, पर पिछले कुछ समय से चीनी मीडिया से भारत को लेकर लगातार उत्तेजक और उन्मादी बातें सामने आ रही हैं। अब वहां के सरकारी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ की एक विशेषज्ञ टिप्पणी में भारत के बारे में सकारात्मक बातें कही गईं हैं और चीन को खामोशी के साथ भारत के उदय को देखना चाहिए।





ग्लोबल टाइम्स में एक चीनी थिंक टैंक का हवाला देते हुए कहा गया है कि हाल में विदेशी उत्पादकों के भारी मात्रा में पूंजी निवेश से भारत की महान शक्ति के रूप में विकसित होने की महत्वाकांक्षा को बल मिला है। भारत सरकार ने हाल में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) को लागू किया है, जो सन 1947 के बाद से सबसे बड़ा टैक्स सुधार है। हालांकि भारत के बाजार को एक करने की कोशिशों को लेकर कई तरह के संदेह हैं, पर विदेश कंपनियां फिलहाल यहां अपने भविष्य को लेकर आश्वस्त नजर आती हैं।

भारत की अर्थ-व्यवस्था पर विदेशी पूंजी निवेश का प्रभाव

इलेक्ट्रॉनिक्स और स्मार्ट फोन बनाने वाली कंपनियां भारत में अपनी निर्माण इकाइयां लगाने जा रहीं है। फॉक्सकॉन ने भारत में 5 अरब डॉलर के निवेश की योजना बनाई है। जून में सैमसंग ने 700 अरब वॉन (60.82 अरब डॉलर) के निवेश की घोषणा की थी। चीनी मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनियां भी भारत में निवेश कर रहीं हैं। वैश्विक ऑटो इंडस्ट्री की दिलचस्पी भी भारत में है। भारी मात्रा में विदेशी पूंजी निवेश का भारत की अर्थ-व्यवस्था पर प्रभाव पड़ेगा।

अख़बार ने लिखा है कि आज जो भारत में हो रहा है, वैसा ही दो दशक पहले चीन में हुआ था। चीन को खामोशी के साथ भारत के उदय को देखना चाहिए।

Comments

Most Popular

To Top