Army

पुलिस आरक्षी भर्ती: महिला-पुरुष अभ्यर्थियों की एक ही रूम में मेडिकल जांच मामले ने तूल पकड़ा

मेडिकल जांच

भिंड। मध्य प्रदेश के भिंड जिले में पुलिस कांस्टेबल भर्ती प्रक्रिया के दौरान महिला और पुरुष उम्मीदवारों की जिला अस्पताल में मेडिकल परीक्षण कथित रूप से एक ही कमरे में किया गया, जबकि जांच का प्रावधान दोनों के अलग-अलग करने का है। मंगलवार को मेडिकल परीक्षण किया गया। जिला प्रशासन ने इस संबंध में मिली जानकारी को गंभीरता से लेते हुए जांच का आदेश दिया है और इस सिलसिले में एक चिकित्सक और एक लिपिक को बुधवार को संस्पेंड कर दिया गया है।





हाल में मध्य प्रदेश के धार में पुलिस कांस्टेबल भर्ती के दौरान उम्मीदवारों के सीने पर एससी-एसटी लिखने की घटना सुर्खियों में थी। ऐसे में भिंड में यह मामला सामने आने पर बिना विलंब किए कार्रवाई की गई है। पुलिस कांस्टेबल भर्ती प्रक्रिया- 2017 में लिखित परीक्षा पास करने वाले 270 अभ्यर्थियों का भिंड में मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है।

एक मई को 23 महिला और 22 पुरुष अभ्यर्थियों का जिला सिविल सर्जन कार्यालय में मेडिकल बोर्ड के समक्ष परीक्षण किया जाना था। वीडियो रिकॉर्ड में मेडिकल बोर्ड में शामिल डॉ. आरके अग्रवाल, डॉ, आरएस कुशवाहा आदि नजर आ रहे हैं। बोर्ड प्रभारी देवेंद्र शर्मा पहले पुरुष अभ्यर्थियों की मेडिकल जांच करते हैं। इसके बाद महिला अभ्यर्थी की मेडिकल जांच करते हैं।

रक्षक न्यूज की राय:

जब पुलिस भर्ती के दौरान महिला व पुरुष उम्मीदवारों की मेडिकल जांच के नियम व प्रावधान पूरी तरह स्पष्ट हैं तो उनका पालन क्यों नहीं हो रहा  ? यह बात समझ से परे हैं। जवाबदेह अफसर तथा जिम्मेदार कर्मचारी किस मन:स्थिति में ऐसा कदम उठाते हैं, इसका खुलासा तो होना ही चाहिए, उनके खिलाफ तत्काल उचित कार्रवाई भी होनी चाहिए।

Comments

Most Popular

To Top