DEFENCE

हम हर हमले का जवाब देंगे: रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री

नई  दिल्ली। भारतीय सेना 2003 के भारत-पाकिस्तान संघर्ष विराम समझौते का पालन करेगी लेकिन सेना  पर यदि बिना किसी उकसावे के हमला किया गया तो वह इसका जवाब देने का अधिकार सुरक्षित रखेगी।





रक्षा मंत्रालय की चार साल की उपलब्धियों पर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने  दृढतापूर्वक कहा कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकती। सीतारमण ने कहा कि हमारा यह काम है कि हम अपनी सीमाओं की रक्षा करें इसलिये जब हम पर हमला होगा तब हम बैठे नहीं रहेंगे। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि हम बिना उकसावे के हमले का समुचित जवाब दें। यह हमारी ड्युटी है कि हम भारत को सुरक्षित रखें। हम हमेशा चौकस रहेंगे।

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह पाकिस्तानी सेना ने भारतीय सेना से वादा किया था कि वह अब नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन नहीं करेगी। दोनों के बीच इस आशय का समझौता 2003 में हुआ था जिसका करीब चार सालों तक पाकिस्तानी सेना ने पालन किया लेकिन उसके बाद नियंत्रण रेखा पर फिर से गोलाबारी शुरू कर दी। एक बार फिर पाकिस्तानी सेना ने संघर्ष विराम समझौते का पालन करने के लिये पिछले सप्ताह दोनों सेनाओं के डीजीएमओ वार्ता में संघर्षविराम लागू करने का ऐलान किया लेकिन अपनी ओऱ से गोलीबारी शुरू कर इसे तोड़ दिया।

डोकलाम में पिछले साल चीनी सेना के साथ तनातनी के बारे में पूछे जाने पर रक्षा मंत्री ने चीनी रक्षा अधिकारियों से अपनी बातचीत औऱ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मुलाकात का जिक्र किया और कहा कि दोनों देशों के बीच रिश्ते पटरी पर हैं।

सेनाओं के भंडार में गोलाबारूद की कमी के बारे में रिपोर्टों का भी रक्षा मंत्री ने खंडन किया और कहा कि पिछली यूपीए सरकार के दौरान सेनाओं के सामने धन का संकट था लेकिन अब ऐसी बात नहीं रही। उन्होंने फ्रांस से रफेल लड़ाकू विमान सौदे के बारे में भी घोटाले की रिपोर्टों को पूरी तरह बकवास बताया।

 

Comments

Most Popular

To Top