Army

VIDEO: करगिल शहीदों की याद में पैदल मार्च, दी इंडिया गेट पर श्रद्धांजलि

जनरल वीके सिंह

नई दिल्ली। करगिल युद्ध में अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए नई दिल्ली के क्नॉट प्लेस के सेंट्रल पार्क से इंडिया गेट तक रविवार (22 जुलाई) को पैदल मार्च का आयोजन किया गया। इसमें पूर्व सैनिकों, नागरिकों तथा नेशनल कैडेट कोर के कैडेटों ने जोश व देश प्रेम के जज्बे के साथ बड़ी संख्या में हिस्सा लिया।





जनरल वीके सिंह

‘वेटरन्स इंडिया’ नामक राष्ट्रीय संस्था द्वारा आयोजित इस पैदल मार्च को केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह तथा बीजेपी के राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह ने झंडी दिखाकर रवाना किया। खुशगवार मौसम, हरे भरे वातावरण, बारिश तथा उमंग-उत्साह के बीच यह परेड कस्तूरबा गांधी मार्ग, माधवराव सिंधिया मार्ग, मानसिंह रोड होते हुए इंडिया गेट पहुंची। वहां अमर-ज्योति पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई।

राजपथ पर विज्ञान भवन के पास बनाए गए पंडाल में शहीदों को याद किया गया। इस अवसर पर जनरल वीके सिंह ने करगिल वीरों को याद किया और देश के लोगों से अपील की कि जवानों और पूर्व सैनिकों का सम्मान देशवासियों का फर्ज है। परमवीर चक्र विजेता सूबेदार मेजर योगेंद्र यादव ने भी करगिल युद्ध से जुड़े अपने अनुभव साझा किए। मेजर जनरल जीडी बक्शी ने अपने अंदाज में आतंकवादियों को आगाह करते हुए कहा कि वे भारत की ओर नजर उठाना बंद कर दें वरना नेस्तानाबूद कर दिए जाएंगे। ‘वेटरन्स इंडिया’ के संस्थापक व राष्ट्रीय अघ्यक्ष बीके मिश्रा ने कहा कि राष्ट्र सर्वोपरि है और इसके लिए त्याग करने वालों का सम्मान होना चाहिए।

बड़ी संख्या में सम्मलित होने आए NCC के कैडेटों ने बताया कि इस पैदल मार्च में शामिल होकर हमें गर्व की अनुभूति हुई। दिल्ली विश्वविद्यालय के राजधानी कॉलेज की महिला कैडेट आज के अवसर को देश प्रेम की भावना जागृत होने के रूप में देखती हैं। पूसा के कैडेटों के अनुसार पूर्व सैनिकों के संबोधन ने उन्हें देश और जीवन के प्रति और जिम्मेदार होने की सीख दी।

इस मौके पर संस्था ने ‘प्राइड ऑफ नेशन’ अवॉर्ड से प्रतिष्ठित लोगों को सम्मानित किया। सम्मान पाने वालों में प्रमुख हैं- परमवीर चक्र विजेता सूबेदार यादव, कर्नल संतोख सिंह, गिरीश निशाना व सुरेश चौहान।

संस्था के राष्ट्रीय महासचिव ब्रिगेडियर आरके शर्मा के मुताबिक नई दिल्ली के अलावा वेटरन्स इंडिया ने इसी समय पूरे देश के करीब 1,100 छोटे-बड़ों शहरों में करगिल पराक्रम परेड के जरिए शहीदों को श्रद्धांजलि दी जिसमें पूर्व सैन्यकर्मियों के अलावा स्थानीय गणमान्य नागरिक तथा आम नागरिक भी शामिल हुए। यह देश के लिए गर्व की बात है।

 

Comments

Most Popular

To Top