Forces

ऐसे बढ़ेगी नौसेना की ताकत, पाकिस्तान के खतरे से निपटेगा कारवार स्मार्ट सैनिक बेस

कारवार बेस फाइनल

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना जहां पूर्व में चीन की चुनौती से निपटने में जुटी है, वहीं पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की तैयारी कर रही है। इसीके मद्देनजर कर्नाटक के कारवार में बन रहे नौसेना बेस को स्मार्ट बनाने का फैसला किया गया है। यह उच्च स्तरीय सुविधाओं, युद्धक संसाधनों एवं वायु संपर्क से जुड़ा होगा।





एक अखबा में प्रकाशित खबर के अनुसार भारतीय नौसना की परियोजना सी बर्ड के दूसरे चरण में 10 हजार करोड़ की लागत से इसे अत्याधुनिक बनाने का कार्य आरंभ हो चुका है। यह विशाखापत्तनम एवं मुंबई नेवी बेस से भी अधिक बड़ा होगा। यहां पाकिस्तान की किसी भी नापाक हरकतों का माकूल जवाब देने की तैयारी रहेगी।

स्मार्ट सिटी की तर्ज पर होगा बेस

भारतीय नौसेना चीफ एडमिरल सुनील लांबा का कहना है कि स्मार्ट सिटी की तर्ज पर नौसैनिक बेस भी स्मार्ट बनाए जाएंगे। जिससे बेस की क्षमता काफी अधिक पढ़ जाएगी। कारवार देश का पहला स्मार्ट बेस होगा।

ऐसे बढ़ेगी नौसेना की ताकत

  • 12,000 एकड़ जमीन है बेस के पास।
  • 10,000 करोड़ की लागत से सी-बर्ड- 2 परियोजना का कार्य शुरू।
  • कई पनडुब्बियां और युद्धपोत इसी बेस में ही रहेंगे।
  • स्कॉर्पियन पनडुब्बियों को भी यहां रखा जाएगा।
  • INS विक्रांत का अड्डा कारवार बेस ही बनेगा और विमानवाहक पोत INS विक्रामादित्य यहीं तैनात होगा।

पाकिस्तान के खिलाफ आवश्यक होगा बेस 

एक अखबार में छपी खबर के अनुसार देखा जाए तो पाकिस्तान के सबसे करीब मुंबई नौसैनिक बेस पड़ता है पर जंग के हालात में मुंबई से नौसेना के लिए पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने में मुश्किल होती है। इसकी तीन वजह है। पहला- मुंबई की तरफ समुद्र में व्यापारिक नौवहन काफी है। दूसरे, फिशिंग और टूरिज्म नौकाएं भी अधिक है। जबकि यह दिक्कत कारवार वाले समुद्र में नहीं है। विशाखापत्तनम भी बड़ा बेस है पर उसका डायरेक्शन पूर्व की तरफ पड़ता है।

कारवार तट से लगता हिस्सा थोड़ा पहाड़ी है। कारवार बेस पर रुकने वाले युद्धपोतों और पनडुब्बियों की सुरक्षा एवं निगरानी ऊंचाई से आसानी से संभव है। इसी वजह से नौसेना अपनी पनडुब्बियों और युद्धक पोतों को यहीं रखेंगी। इस जगह पर पोतों तथा पनडुब्बियों को दुश्मन आसानी से टारगेट नहीं कर सकता। इस बेस में मिसाइलों के लिए भंडार होगा। भारतीय नौसेना के लिए ऑफिस, हथियार, ईंधन, बैंक, स्कूल दुकानें और एयरपोर्ट आदि सब कुछ होगा।

Comments

Most Popular

To Top