Army

दुश्मन के ड्रोन्स को ढूंढकर खत्म करेगी यह स्वेदशी तकनीक

Indigenous-Device

बेंगलुरू। दुश्मनों के ड्रोन्स ढूंढना और उन्हें ट्रैक करने की तकनीक विकसित कर ली गई है। यह तकनीक दुश्मन के ड्रोन्स को नष्ट करने में भी सक्षम होगी। सबसे दिलचस्प बात यह कि यह तकनीक स्वदेशी है। एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक यह तकनीक भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) के पास है और अभी यह एक वर्किंग प्रोटोटाइप है।





बेंगलुरू स्थित BEL  के पूर्व डायरेक्टर AT Kalghatgi के मुताबिक BEL ने इस प्रोटोटाइप के बारे में कुछ एजेंसीज से बातचीत की है और दो महीने के भीतर इसका Field demo किया जा सकता है। अखबार के मुताबिक इस ground-based system को सीमावर्ती और पहाड़ी इलाकों में सशस्त्र बलों को इस्तेमाल करने के लिए दिया जा सकता है। हवाई अड्डों और संसद भवन जैसे महत्वपूर्ण स्थानों पर भी इस सिस्टम को लगाया जा सकता है। ड्रोन को तलाशने के लिए यह पोर्टेबल प्रोटोटाइप रडार और Electro-optical तथा Electromagnetic sensors  का इस्तेमाल करता है। AT Kalghatgi के अनुसार क्योंकि यह एक प्रोटोटाइप है एक छोटी रेंज का प्रोडक्ट तैयार किया गया है। यह 3-5 किलोमीटर की सीमा में काम करने में सक्षम है लेकिन जरूरत के हिसाब से इसके काम करने का दायरा विस्तृत किया जा सकता है।

Comments

Most Popular

To Top