Army

ब्रह्मोस की मारक क्षमता बढ़ाएगा यह नया लांचर

ब्रह्मोस-मिसाइल
ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों को किसी युद्धपोत से अधिक असरकारी तरीके से लांच करने के लिये एक नया लांचर बनाया गया है जिससे ब्रह्मोस की मारक क्षमता में भी इजाफा होगा।





यह लांचर एल एंड टी डिफेंस ने तैयार किया है जिसे क्वाड लांचर कहा गया है। यह लांचर किसी छोटे युद्धपोत के डेक पर भी तैनात किया जा सकेगा। यह लांचर झुकी हुई स्थिति में बनाया गया है। इसके पहले ब्रह्मोस मिसाइलों को दो कैनिस्टर वाले डेक पर तैनात किये जाने वाले लांचरों से छोड़ा जाता था। नया क्वाड लांचर अब एक साथ चार ब्रह्मोस मिसाइलों को लांच कर सकेगा। इस तरह दुश्मन के युद्धपोतों पर ताबड़तोड़ हमले कर उसे नेस्तनाबूत किया जा सकता है।

एल एंड टी डिफेंस लार्सन एंड टुब्रो की रक्षा ईकाई है। यह ब्रह्मोस एरोस्पेस प्राइवेट लि. की अग्रणी औद्योगिक साझेदार है। एल एंड टी के पूर्ण कालिक निदेशक (रक्षा) जयंत पाटिल ने इस नये क्वाड लांचर को ब्रह्मोस के सीईओ और प्रबंध निदेशक ड़ा. सुधीर मिश्र को सौंपा। नया क्वाड लांचर क्वाड्रपल कैनिस्टराइज्ड इनक्लाइंड लांचर  कहा जाता है।

इस मौके पर जयंत पाटिल ने कहा कि हम सन् 2000 से ही ब्र्हमोस मिसाइल कार्यक्रम से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि नये क्वाड लांचर का नमूना उनकी कम्पनी ने 18 महीने में ही विकसित कर लिया। अब जल्द ही इसका उत्पादन शुरू किया जाएगा। डा. मिश्र ने इस मौके पर कहा कि नया क्वाड लांचर डिजाइन इन इंडिया और मेड इन इंडिया की एक बेजोड़ मिसाल है।

उल्लेखनीय है कि ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइलें आवाज से 2.8 गूना अधिक गति से 290 किलोमीटर तक जा सकती हैं। थलसेना, वायुसेना औऱ नौसेना में ब्रह्मोस मिसाइलों की तैनाती शुरु हो चुकी है। अब ब्रह्मोस मिसाइल की आठ सौ किलोमीटर मारक दूरी वाली और आवाज से सात गुना अधिक गति से अपने लक्ष्य पर हमला करने की क्षमता वाली किस्म विकसित करने पर काम चल रहा है। यह मिसाइल दुश्मन के ठिकाने को खोज कर नष्ट करने में सक्षम होती है।

Comments

Most Popular

To Top