DEFENCE

वर्ष 1962 के युद्ध में काम आई थी इनकी जमीन, अब 56 वर्ष बाद मिला मुआवजा

सीएम पेमा खांडू ने दिया मुआवजा

नई दिल्ली। वर्ष 1962 में चीन के साथ युद्ध में अरूणाचल प्रदेश के कुछ गांवों की जमीन का सेना ने अपने बंकर और बैरक बनाने के लिए अधिग्रहण किया था। उस युद्ध के 56 वर्ष बाद अब अरुणाचल प्रदेश के ग्रामीणों को उनकी जमीन के मुआवजे के रूप में 38 करोड़ रुपये दिये गये हैं।





मीडिया खबरो के मुताबिक केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री किरन रिजिजू और अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने शुक्रवार को पश्चिमी खेमांग जिले में एक कार्यक्रम में ग्रामीणों को मुआवजे की राशि के चेक दिये। ग्रामीणों को कुल 37.73 करोड़ रुपये के चेक दिये गये। जिस जमीन के लिए मुआवजा दिया गया है वह सामुदायिक भूमि थी। इसलिए जो रकम दी गई है उसे ग्रामीणों के बीच बांटा जायेगा।

पिछले वर्ष अप्रैल 2017 में तीन गांवों के 152 परिवारों को 54 करोड़ रुपये का मुआवजा दिया गया था। पिछले साल ही सितंबर 2017 में ग्रामीणों को मुआवजे के तौर पर 158 करोड़ रुपये की एक अन्य किश्त भी दी गई थी। मुआवजे की यह राशि ग्रामीणों की निजी जमीन अधिग्रहित करने के एवज में दी गई थी। आठ माह पहले फरवरी 2018 में त्वांग जिले में भी 31 परिवारों को मुआवजे के तौर पर 40.80 करोड़ रुपये दिये गये थे।

Comments

Most Popular

To Top