Army

एटीएस ऑफिसर की संदिग्ध मौत या आत्महत्या!

अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी
अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी (फाइल फोटो)

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के एंटी टेररिज्म स्कवाड(एटीएस) मुख्यालय में उस वक्त अफरा-तफरी का माहौल हो गया जब अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी की संदिग्ध हालात में मौत की खबर सामने आई। हालांकि विभाग के उच्चाधिकारियों का मानना है कि उन्होंने आत्महत्या की है। मंगलवार दोपहर एटीएस के मुख्यालय में उनके कमरे से उनका शव बरामद किया गया। खबर मिलते ही सभी आला अफसर मौके पर पहुंच गए।





मौका-ए-वारदात पर पहुंचे एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि राजेश साहनी ने अपने ऑफिशल रिवॉल्वर से खुद को गोली मारी है। उन्होंने आत्महत्या क्यों की यह अभी तक पता नहीं चल पाया है। 1992 बैच के पीपीएस सेवा में चुने गए राजेश साहनी साल 2013 में अपर पुलिस अधीक्षक बनाए गए थे। राजेश साहनी मूल रूप से बिहार के पटना के रहने वाले थे।

एक वेबसाइट के मुताबिक बीते सप्ताह उन्होंने ISI एजेंट की गिरफ्तारी समेत कई बड़े अभियान को अंजाम तक पहुंचाया था। उन्होंने कई आतंकियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेजा था। वह ATS के तेज तर्रार एएसपी के तौर पर जाने जाते थे। उनका दफ्तर गोमती नगर मुख्यालय में स्थित था। सूत्रों ने बताया कि साहनी मंगलवार को छुट्टी पर थे लेकिन वह फिर भी दफ्तर आए थे।

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि हमें बताते हुए दुख हो रहा है कि राजेश साहनी नहीं रहे। वह यूपी पुलिस के सबसे काबिल अफसर में एक थे। उनकी आत्महत्या की वजहों के बारे में अभी तक पता नहीं चल सका है।

Comments

Most Popular

To Top