DEFENCE

स्पेशल रिपोर्ट: भारत अमेरीकी रक्षा मंत्री मिले, कैटसा और S- 400 मिसाइल पर मौन

एस- 400 मिसाइल प्रणाली

नई दिल्ली। भारत और अमेरिकी रक्षा मंत्रियों की शुक्रवार को सिंगापुर में मुलाकात के दौरान आपसी रक्षा संबंधों के अलावा क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मसलों पर गहन बातचीत हुई।





समझा जाता है कि इस दौरान रूस पर लगाये गए अमेरिकी काटसा कानून के बारे में भी चर्चा हुई  लेकिन इस बारे में दोनों पक्षों ने मौन बरता है। इस आशय की रिपोर्टें हैं कि अमेरिका ने भारत से प्रस्ताव रखा है कि कैटसा कानून के प्रतिबंधों से बचना है तो भारत अमेरिका से लड़ाकू विमानो का कोई  बड़ा सौदा करे।

इस बातचीत का ब्यौरा भारतीय पक्ष ने जारी नहीं किया जबकि अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन ने एक संक्षिप्त बयान में इतना ही कहा कि दोनों ने आपसी रक्षा रिश्तों की अहमियत पर बल दिया है। दोनों देश हिन्द प्रशांत इलाके में आपसी सहयोग और चर्चा जारी रखेंगे।

अमेरिकी बयान में इस बात पर जोर दिया गया है कि दोनों रक्षा मंत्रियों की दो महीने के भीतर दूसरी मुलाकात हुई है। अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस पिछली बार भारत के साथ टू प्लस टू वार्ता के लिये नई दिल्ली आए थे।

गौरतलब है कि अमेरिका ने कैटसा कानून के तहत यह प्रावधान रखा है कि रूस से सैनिक साज समान खरीदने वाले देशों पर अमेरिका प्रतिबंध लगाएगा। अमेरिका ने भारत को पहले आगाह किया था कि रूस से एस 400 मिसाइल का सौदा किया तो चीन की तरह भारत पर भी प्रतिबंध लगा देगा। लेकिन गत 4 अक्टूबर को रूस से समझौता होने के बाद भी अमेरिका ने अब तक किसी कार्रवाई का एलान नहीं किया है।

अब ताजा रिपोर्टों के मुताबिक अमेरिका ने भारत से प्रस्ताव रखा है कि भारतीय वायु सेना के लिये 110 लड़ाकू विमानों का जो टेंडर निकाला है उसका सौदा या तो अमेरिकी बोइंग के एफ 18 या फिर अमेरिकी एफ 16 विमान के साथ करें।

अमेरिका ने कहा है कि कैटसा कानून से बचने के लिए भारत को अमेरिका से बड़ा रक्षा सौदा करना होगा।

Comments

Most Popular

To Top