Army

स्पेशल रिपोर्ट: जनरल रावत वियतनाम के अहम दौरे पर

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के वियतनाम दौरे के तुरंत बाद थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत 22  नवम्बर को वियतनाम की राजधानी पहुंचेंगे। जनरल रावत  25  नवम्बर तक वियतनाम का दौरा करेंगे।





चीन के पड़ोसी वियतनाम के साथ भारत के हाल के सालों में सामरिक और रक्षा सम्बन्ध काफी गहरे हुए हैं। भारत और वियतनाम के बीच रक्षा आदान-प्रदान पर चीन के सामरिक हलकों की काफी पैनी नजर रहती है। थलसेना प्रमुख का आगामी वियतनाम दौरा दोनों देशों के  सामरिक सम्बन्धों के अनुरुप है। इस दौरे से दोनों देशों की सेनाओं के बीच आपसी सैन्य समबन्ध और मजबूत होंगे।

वियतनाम के साथ भारत के नौसैनिक रिश्ते काफी गहरे चल रहे हैं लेकिन अब दोनों देशों के थलसैनिकों के बीच भी उच्चस्तर का आदान प्रदान काफी अहम है। जनरल रावत के वियतनाम दौरे की जानकारी देते हुए यहां थलसेना के प्रवक्ता ने बताया कि  वियतनाम के आला सैन्य और रक्षा अधिकारियों से मुलाकात के अलावा वह वियतनाम के अहम सैन्य प्रतिष्ठानों का भी दौरा करेंगे।

जनरल रावत वियतनाम के रक्षा मंत्री जनरल अंगो श्वान लिच, थलसेना प्रमुख सीनियर लेफ्टिनेंट जनरल फाम होंग ह्वांग और डिप्टी चीफ ऑफ जनरल स्टाफ से मिल कर आपसी सहयोग के मसलों के अलावा क्षेत्रीय सुरक्षा मसलों पर भी  बात करेंगे। गौरतलब है कि  2016  में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वियतनाम दौरे में दोनों देशों के सामरिक सम्बन्धों के रिश्तों का स्तर ऊंचा कर समग्र सामरिक साझेदारी  का कर दिया था। दोनों देशों के बीच हाल के सालों में रक्षा सहयोग औऱ आदान प्रदान काफी बढ़ा है। दोनों देशों की तीनों सेनाओं के बीच विभिन्न स्तरों पर ट्रेनिंग के कार्यक्रम चलते हैं और आदान प्रदान होता है।

थलसेना के प्रवक्ता ने कहा कि यह दौरा दोनों देशों के बीच सामरिक रिश्तों के इतिहास में एक और मील का पत्थर होगा। इस दौरे से दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग नये स्तर पर पहुंचेगा।

Comments

Most Popular

To Top